मुजफ्फरपुर, जेएनएन। Gorakhpur Kolkata Purvanchal Express Accident in Muzaffarpur, Bihar : मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर रेलखंड पर सिलौत के पास पूर्वांचल एक्सप्रेस की दो बोगियां एसी कोच में लगी टंकी की वेल्डिंग टूटने के कारण बेपटरी हुई थीं। इसमें गोरखपुर कोङ्क्षचग डिपो के कर्मियों की लापरवाही मानी जा रही है। बताया जाता है कि गोरखपुर में बिना जांच के ही कोच को ओके का सर्टिफिकेट जारी कर दिया गया, जबकि लॉकडाउन के कारण महीनों से कोचिंग डिपो में कोच पड़े हुए थे। हादसे की जांच को गठित टीम की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। मामले में कोचिंग डिपो के कर्मियों पर गाज गिर सकती है। वेल्डिंग की गुणवत्ता और उसमें लगे मैटेरियल की भी जांच होने की उम्मीद है। 

बताया जाता है कि मंगलवार को गोरखपुर से ट्रेन खुलने के बाद मुजफ्फरपुर जंक्शन पर पहुंची। मुजफ्फरपुर कोचिंग डिपो के कर्मियों ने सभी बोगियों की जांच की, लेकिन खराबी नहीं पकड़ में आई। सिलौत स्टेशन की गुमटी संख्या 89-90 के बीच लटकी एसी कोच की टंकी ट्रैक से जाकर टकरा गई थी। तेज आवाज हुई तो स्टेशन मास्टर व गेट मैन ने लाल झंडी दिखाई। गार्ड ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रोक दी। इससे ट्रेन की सिर्फ दो बोगियां बेपटरी हुईं और बड़ा हादसा टल गया।

कर्मचारियों को तलब किया गया

इधर, जांच को लेकर गोरखपुर कोचिंग डिपो के अधिकारियों और कर्मियों की टीम ने मुजफ्फरपुर कोचिंग डिपो के अधिकारियों से मुलाकात की। घटना के बारे में जानकारी ली। वहीं पटना में सीआरएस के समक्ष पूर्वांचल एक्सप्रेस के गार्ड, लोको पायलट, सहायक लोको पायलट, गेटमैन और कर्मचारियों को तलब किया गया। सभी से पूछताछ की गई। सोनपुर मंडल के डीआरएम अनिल कुमार गुप्ता ने कहा कि हादसे की जांच चल रही। दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। इधर, पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि बेपटरी होने से कोई यात्री घायल नहीं हुआ।  

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस