जागरण संवाददाता, मुंगेर : कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर मुंगेर विश्वविद्यालय की व्यवस्था चरमरा गई है। कुलपति सहित विश्वविद्यालय के 21 पदाधिकारी और कर्मचारी के संक्रमित हो जाने के बाद विवि को बंद कर दिया गया है। हालांकि, परीक्षा विभाग अपना काम कर रहा है। मुंगेर विश्वविद्यालय की ओर से छह से 15 जनवरी के बीच सत्र 2018-21 स्नातक पार्ट थ्री की नामांकन प्रक्रिया शुरू की गई थी। 12 जनवरी से सत्र 2021-24 स्नातक पार्ट वन के लिए कालेजों में रिक्त पड़े सीटों पर दोबारा आन-द-स्पाट नामांकन प्रक्रिया आरंभ होनी थी। पूर्व में आवेदन से वंचित छात्र-छात्राएं भी नए आवेदन कर सकते थे, लेकिन 10 जनवरी को विश्वविद्यालय का आफिशियल वेबसाइट पूरी तरह से बंद हो गया, जिस कारण जहां पार्ट थ्री की नामांकन प्रक्रिया अधूरी रह गई। 12 जनवरी से पार्ट वन के लिए आन-द-स्पाट नामांकन प्रक्रिया आरंभ नहीं हो सकी। 11 जनवरी को एमयू में कई अधिकारी व कर्मी कोरोना पाजिटिव हो गए। विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया। ऐसे में वेबसाइट का कार्य आधर में लटक गया था। हलांकि प्रभारी कुलसचिव डा देवराज सुमन की ओर से लगातार अधिकारियों से बात कर वेबसाइट को ठीक करा दिया गया। ठीक हुए दो दिन हो चुका है। बावजूद विश्वविद्यालय अबतक दोनों सत्रों की नामांकन प्रक्रिया शुरू करने को लेकर कोई अधिसूचना जारी नहीं किया है, जिस कारण छात्र-छात्राएं परेशान हैं। इस संदर्भ में मुंगेर विश्वविद्यालय के नामांकन समिति के पदाधिकारी सह डीएसडब्लू डा. अनुप कुमार ने बताया कि कुलपति के पास दोबारा दोनों सत्रों की नामांकन प्रक्रिया आरंभ करने का प्रस्ताव रखा जाएगा। उनसे अनुमति मिलने के पश्चात दोनों सत्रों की नामांकन प्रक्रिया फिर से शुरू की जाएगी।

Edited By: Jagran