संवाद सूत्र, बरियारपुर (मुंगेर) जमालपुर भागलपुर रेल खंड पर स्थित बरियारपुर रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं का घोर अभाव है। प्लेटफार्म पर बने शेड में सीट की व्यवस्था नहीं किए जाने के कारण यात्रियों को खड़ा रहना पड़ता है। धूप में सीमेंट के बने सीट पर बैठ कर ट्रेन का इंतजार करना पड़ता है। बरसात,गर्मी व जाड़े में यात्रियों को इससे परेशानी का सामना करना पड़ता है। प्लेटफार्म पर तीन शौचालय बना हुआ है, जिसकी चाभी स्टेशन प्रबंधक के कार्यालय में रहती है।सफाई व आसपास के लोग शौचालय का उपयोग कर इसे गंदा नहीं कर दें, जिसको लेकर शौचालय में ताला लगाकर रखा जाता है। आवश्यकता होने पर यात्री चाभी लेकर शौचालय का प्रयोग करते हैं।दो नंबर प्लेटफार्म पर शौचालय की व्यवस्था नहीं होने से महिला यात्रियों को परेशानी होती है। स्टेशन पर अतिविशिष्ट कक्ष व पुरुष व महिला प्रतिक्षालय बना हुआ है, लेकिन इसमें ताला लगा रहने से यात्रियों को इसका लाभ नहीं मिल पाता है, जिस कारण यात्रियों को प्लेटफार्म पर खुले में रहना पड़ता है। दोनों प्लेटफार्म पर एक एक नए शेड बनाए गए हैं, जिससे यात्रियों को सुविधा मिल सकेगी। प्लेटफार्म पर पेयजल की उचित व्यवस्था नहीं होने से गर्मी के दिनों में यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।जलमीनार की संख्या कम होने से व बोरिग की व्यवस्था नहीं रहने से पेयजल की समस्या बनी रहती है।

---------------------

जेनरेटर की नहीं है व्यवस्था

स्टेशन पर बिजली की व्यवस्था बिहार सरकार की बिजली पर निर्भर है। बिजली कट जाने पर जनरेटर की व्यवस्था नहीं होने से यात्रियों को परेशानी होती है। रेलवे ओवरब्रिज निर्माण होने के बाद क्रासिग बंद कर दिए जाने के कारण यात्रियों को प्लेटफार्म पर आने जाने में परेशानी होती है।फाटक को लोहे के पटरी से बंद कर दिए जाने के कारण महिलाओं व विकलांगों को आने जाने में परेशानी होती है।स्टेशन परिसर की साफ सफाई की व्यवस्था ठीक है व प्लेटफार्म को साफ करने के लिए कर्मी लगे रहते हैं।

------------------------

तीन से चार हजार यात्री करते है सफर

स्टेशन पर सुरक्षा की व्यवस्था ठीक है।24 घंटे आरपीएफ व जीआरपी के जवान यात्रियों की सुरक्षा में तैनात रहते हैं। बरियारपुर स्टेशन पर अपराध रोकने के लिए स्थाई पुलिस पिकेट नहीं है।

इस स्टेशन से प्रतिदिन तीन से चार हजार यात्री प्रतिदिन यात्रा करते हैं।स्टेशन की प्रतिदिन की आय एक लाख से अधिक है। पीक सीजन में यह आय बढ़कर डेढ़ से दुगुनी हो जाती है।

----------------------------

साप्ताहिक ट्रेनों का ठहराव नहीं

बरियारपुर स्टेशन पर सप्ताहिक व त्रिदिवसीय ट्रेनों का ठहराव नहीं है। लोगों का कहना है कि मालदा आनंदविहार, यशवंतपुर व अमरनाथ,गया कामाख्या,मालदा पटना एक्सप्रेस गाड़ियों का ठहराव यहां देना चाहिए, जिससे रेलवे की आय में बढ़ोतरी हो सकती है। इस स्टेशन से खड़गपुर,टेटियाबंबर, बरियारपुर, जमालपुर व मुंगेर प्रखंड के लोग यात्रा करते हैं, लेकिन साप्ताहिक ट्रेनों का ठहराव नहीं रहने से यात्रियों को जमालपुर या भागलपुर जाना पड़ता है।

--------------------

क्या कहते है यात्री

खड़गपुर के यात्री सुधांशु कुमार ने कहा कि बरियारपुर स्टेशन कई प्रखंडों के लोगों के लिए उपयोगी है। साप्ताहिक ट्रेनों का ठहराव नहीं रहने से परेशानी होती है।रात में यात्रियों को ट्रेन पकड़ने व रहने के लिए प्रतिक्षालय का खुला रहना चाहिए। यात्री रामप्रकाश ने प्लेटफार्म पर पेयजल की आपूर्ति की समुचित व्यवस्था के साथ-साथ दोनों प्लेटफार्म पर शौचालय की व्यवस्था करने व मूलभूत सुविधाओं को बढ़ाने की आवश्यकता जताई।

Edited By: Jagran