संवाद सूत्र, मुंगेर : इदारा दरसे दिनयात मदरसा की ओर से सुजावलपुर में मंगलवार की शाम जलसा का आयोजन किया गया। सदारत अमीर-ए-शरीयत मौलाना अहमद फैसल वली रहमानी ने की। वली रहमानी ने सात छात्रों को पगड़ी दी और छह छात्राओं को शाल के साथ पुरस्कार देकर सम्मानित किया। अकीदतमंदों को संबोधित करते हुए अमीर-ए-शरीयत हजरत अहमद वली फैसल रहमानी ने कहा शिक्षा के क्षेत्र में 100 वर्षों से काम हो रहा है। हर प्रखंड में विद्यालय और मदरसा खोले जाएंगे। यतीम और गरीब बच्चे बेहतर शिक्षा हासिल कर सकते हैं और इल्म की रोशनी में अपने आप को बेहतर ऊंचाई पर लाने का काम करेंगे। उन्होंने मौजूद 13 बच्चे के बारे में कहा सभी ने पांच वर्षों की पढ़ाई पूरी की है। छात्र मौलवी हाफिज बन कर राज्य के विभिन्न हिस्सों में जाकर शिक्षा का दीप जलाने का काम करेंगे।

------------

दहेज प्रथा जैसी बुराई का करें विरोध : उमरैन

इदारा दरसे दीनियात सुजावलपुर आयोजित दस्तारबंदी के दौरान पहुंचे उलेमाओं ने मदरसों की हिफाजत, मदरसों में बच्चों को बेहतर तालिम पर चर्चा की। आल इंडिया मुूस्लिम पर्सनल ला बोर्ड के महासचिव मौलाना मु. उमरैन महफूज ने कहा कि मुसलमानों ने देश के लिए हर दौर में उठने वाली मुसीबतों का मुकाबला किया है। उन्होंने समाज में दहेज प्रथा जैसी कुरीति को समाप्त करने की बात कही। इस मौके पर इमाम मु. बरकतुल्ला कासमी, मु. शमीम अनवर, तासिफउल आवेदीन, मौलाना अंसार कासमी, मौलाना तवरेज आलम कासमी, मु. इजहार सहित अन्य अकीदतमंद थे।

-----------

इन्हें सम्मानित किया गया

फसीउर रहमान, बली अख्तर मुजम्मिल, मु, साजिद आलम, अताउर रहमान, मु मजीद, सुफियान इफ्तेखार इसके अलावा तस्नीम कौसर, मारूफा साहब, अलीशा परवीन, आलिया, मनकसा, मुस्कान परवीन।

Edited By: Jagran