नोट-ट्रेन का लोगों लें कैचवर्ड:-रविवार विशेष

------

-दरभंगा-सिकंदराबाद और रक्सौल-हैदराबाद एक्सप्रेस अब मुंगेर होकर नहीं चलेगी

-जुलाई के पहले सप्ताह से पुराने मार्ग किऊल-जसीडीह-धनबाद होकर चलेगी

-करीब 50 हजार यात्रियों को हो रही थी सहूलियत रेलवे के इस निर्णय से यात्रियों में नाराजगी

------------------------------

केएम राज, जमालपुर (मुंगेर)। योगनगरी वासियों के लिए दरभंगा-सिकंदराबाद और रक्सौल-हैदराबाद एक्सप्रेस में सफर करना अगले महीने से सपना हो जाएगा। दोनों गाड़ियां जुलाई महीने से मुंगेर-जमालपुर होकर नहीं चलेंगी। रेलवे ने बकायदा इसके लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। दोनों ट्रेन नहीं चलने से करीब हर महीने सफर करने वाले करीब 50 हजार यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। रेलवे के इस निर्णय से रेल यात्रियों में नाराजगी है। दरअसल, धनबाद-चंद्रपुरा रेल सेक्शन पर जुलाई 2017 से रेल पटरी के नीचे आग लग जाने के कारण इस रूट से चलने वाली गाड़ियों का मार्ग परिवर्तित कर दिया गया था। करीब 23 महीने से दरभंगा-सिकंदराबाद और रक्सौल-हैदराबाद सप्ताहिक ट्रेन बेगूसराय, मुंगेर, जमालपुर, अभयपुर, किऊल होते हुए गया के रास्ते चल रही थी। दिसंबर में रेलवे बोर्ड ने अभयपुर स्टेशन पर इसका ठहराव भी दे दिया था। इधर, मार्च-2019 से डीसी लाइन पर परिचालन शुरू होने के बाद परिवर्तित मार्ग की गाड़ियों को फिर से बहाल करने का निर्देश रेलवे बोर्ड ने दिया है।

-----------------------

दो जिले के यात्रियों को हो रही थी सहूलियत

इन दोनों गाड़ियों के चलने से न सिर्फ बेगूसराय बल्कि मुंगेर और लखीसराय जिले के यात्रियों को फायदा हो रहा था। अभी इस रूट से सिकंदराबाद और हैदराबाद के लिए एक भी ट्रेन नहीं है। ऐसे में दन दोनों गाड़ियों का ठहराव रूट बदलने से यात्रियों को परेशानी होगी।

-----------------

उड़ीसा, पूरी, हैदराबाद जाने के लिए एक मात्र ट्रेन

मुंगेर, जमालपुर और लखीसराय जिले के हजारों छात्र उड़ीसा, पूरी, विशाखापट्टनम और हैदराबाद में पढ़ाई करते हैं। इस ट्रेन के चलने से खासकर छात्रों को काफी सहूलियत हो रही थी। लेकिन रेलवे के एक निर्णय में छात्र को भी परेशानी में डाल दिया।

------------

रूट बदलने से महज 15 मिनट का अंतर

दरभंगा-सिकंदराबाद ट्रेन का रूट बदलने से दूरी का कोई खास अंतर नहीं है। रेलवे का पुराना रूट बरौनी-किऊल के रास्ते धनबाद होकर सिकंदराबादद जाने और मुंगेर गंगा पुल-जमालपुर किऊल होकर पहुंचने में महज 15 घंटे का अंतर है। ऐसे में रेलवे का यह निर्णय यात्री सुविधाओं के हित में नहीं दिख रहा है।

---------------

हजारों यात्रियों ने करा रखा है आरक्षण

इन दोनों गाड़ियों में अभी पांच हजार से ज्यादा यात्रियों ने आरक्षण करा मुंगेर, जमालपुर और अभयपुर से करा लिया है। ऐसे में ट्रेन से सफर करने वाले यात्रियों को अपनी टिकटें कैंसिल करानी होगी। इससे यात्रियों को बेवजह परेशान होना पड़ेगा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस