संवाद सहयोगी, मुंगेर : सरसों और रिफाइन की बढ़ी कीमत से अभी लोगों को निजात भी नहीं मिली थी कि अचानक मसालों की कीमत में इजाफा हो गया। मसालों की कीमत में आई उछाल से सब्जियों का स्वाद और खुशबू बिगड़ गया है। लगभग तीन सप्ताह में मसालों की कीमत में प्रति किलो 10 से 15 रुपये तक का इजाफा हुआ है। रसोई घर में खाना बनाने में लोगों को ज्यादा पैसा खर्च करना पड़ रहा है। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगी आग के बाद अब मसालों के महंगा होने से आम आदमी की जेब खाली हो रही है। शहर के थोक मंडी में जिन मसालों की कीमतों में उछाल देखने को मिला है, उनमें इलायची, जावित्री, कालीमिर्च, हल्दी, धनिया, जीरा शामिल है। नवंबर-दिसंबर की अपेक्षा जनवरी में 15 से 20 प्रतिशत कीमत में इजाफा हुआ है। अभी और कीमत बढ़ने की उम्मीद है। थोक दुकानदार मु. फैसल ने बताया ज्यादतर मसाले की आपूर्ति केरल से होती है। दिसंबर में आई बाढ़ की वजह से मसालों की पैदावार पर असर पड़ा है। इस वजह से दामों में उछाल आया है। -------------------------------- इलाचयी आठ सौ तो काली मिर्च 100 रुपये महंगा मसालों की कीमत बढ़ने के कारण काली मिर्च में प्रतिकिलो सौ रुपये की बढ़ोत्तरी हुई है, इलायची की कीमत आठ सौ रुपये किलो महंगा हुआ है। दाल चीनी की कीमत में 50 रुपये का इजाफा हुआ है। अचानक कीमत बढ़ने से लोग कम मात्रा में मसालों की खरीदारी कर रहे हैं। ----------------------- कीमत पर नजर मसाला, दिसंबर की कीमत, अब धनिया- 80 से 100, 100 से 120 हल्दी-120 से 140, 140 से 160 लाल मिर्च-160 से 200, 180 से 220 जीरा- 185 से 200, 200 से 220 काली मिर्च-650 से 700, 750 से 800 दालचीनी 350 से 450, 380 से 500 इलायची 3200, 4000 रुपये तक ----------------------

Edited By: Jagran