मुंगेर । डीजल शेड को इलेक्ट्रिक शेड में तब्दील करने का मुद्दा संसद में गूंजा। सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने लोकसभा में डीजल शेड कारखाना का मुद्दा प्रमुखता से उठाया। संसद के शून्य काल में सांसद ने जमालपुर कारखाना एवं डीजल शेड के सैकड़ों वर्ष पुराने ऐतिहासिक उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा कि जमालपुर शहर का 75 प्रतिशत भू भाग रेलवे के अधीन है। जहां जमालपुर रेल इंजन कारखाना के अलावे डीजल शेड कारखाना है। अंग्रेजों के जमाने से ही यहां रेल कारखाना संचालित है। डीजल शेड में कोरोड़ों की आधारभूत संरचना उपलब्ध है। इसके बाद भी इलेक्ट्रिक इंजन के प्रचलन में आने के बाद फेज वाइज जमालपुर डीजल शेड कारखाना को बंद करने का प्रयास किया जा रहा है। फेज वाइज कर्मचारियों का स्थानांतरण किया जा रहा है। यह उचित नहीं है। सांसद ने कहा कि मैं रेल मंत्रालय से यह अपील करता हूं कि रेलवे के इस महत्वपूर्ण इकाई को समय के साथ इलेक्ट्रिक शेड में तब्दील करते हुए इसका उपयोग रेल एवं कर्मचारियों के हित में किया जाए, ताकि जमालपुर बाजार और नौजवानों पर इसका प्रतिकूल असर नहीं पड़े। सांसद ने कहा कि शून्य काल में मामला उठाने के बाद यह मामला रेल मंत्रालय को भेजा जाएगा। इधर, ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन ओपन लाइन शाखा के सचिव केडी यादव सहित रेल कर्मियों ने सांसद को धन्यवाद दिया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस