मधुबनी। आगामी 4 अक्टूबर से चुनाव आयोग के निर्देश पर प्रारंभ होने वाली विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2018 की सफलता के लिए प्रशासन पुरजोर कोशिश में लगा है। इस सिलसिले में शनिवार को एसडीओ विमल कुमार मंडल ने अपने कार्यालय प्रकोष्ठ में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों संग एक बैठक की। बैठक में कई दलों के प्रखण्ड प्रमुख तथा नेता उपस्थित थे। एसडीओ ने बताया कि निर्वाचक सूची का प्रारूप प्रकाशन 4 अक्टूबर को होगा तथा उस दिन से लेकर 31 अक्टूबर तक दावा आपत्ति दाखिल की जाएगी। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रखंडों में बीएलओ की बैठक कर इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी किए गए हैं तथा बीएलओ को पूरी गंभीरता से काम करने को कहा गया। उन्होंने कहा कि कभी-कभी राजनीतिक दल के कार्यकर्ता की ओर से प्रशासन पर यह आरोप लगाया जाता है कि एक साजिश के तहत उनके दल के कार्यकर्ताओं का नाम मतदाता सूची में नहीं जोड़ा गया। उन्होंने कहा कि इस शिकायत को सिरे से खारिज करने के लिए विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में राजनीतिक दलों की भूमिका को भी रेखांकित किया गया है। उन्होंने प्रखण्ड अध्यक्षों से आग्रह किया कि आप हर बूथ पर अपना एक प्रतिनिधि बीएलए की नियुक्ति करें तथा उन्हें यह सुनिश्चित करने को कहे कि उनके बूथ क्षेत्र का कोई भी मतदाता का नाम छूटे नहीं। अगर कोई लगातार बाहर रहते हैं तो इस संबंध में बीएलओ को विहित प्रपत्र में आपत्ति दर्ज कराएं ताकि वैसे लोगों का नाम छांटा जा सके। बैठक में जदयू के प्रखण्ड अध्यक्ष अशोक कुमार साहु, सीपीआई के अंचल मंत्री लखनौर राम नारायण यादव, बीजेपी के नंद कुमार महतो, कांग्रेस के भाष्कर चौधरी, जदयू लखनौर के प्रखण्ड अध्यक्ष शशिकांत चौधरी के अलावे विभिन्न पार्टी के मो. लाल, अशोक यादव, राजन कुमार मंडल, इरशाद आलम, प्रदीप कुमार ठाकुर सहित अन्य उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप