मधुबनी। पंडौल प्रखंड के नरपतिनगर पंचायत का कनकपुर गांव में कई आवश्यक मूलभूत सुविधाओं की कमी है। प्रखंड मुख्यालय से 12 किमी दूर यह गांव अपने विकास की प्रतीक्षा में है।

लगभग 15 सौ वोटरों वाले इस गांव में पंचायत के कुल दो वार्ड आते हैं। जिसमें दो आंगनबाड़ी केंद्र है जिसे अपना भवन भी नहीं है। एक संसाधन विहीन मध्य विद्यालय है जहां ना तो नियमित एमडीएम बनता है ना ही शौचालय की पर्याप्त सुविधा है। गांव में लगभग 50 प्रतिशत लोग साक्षर हैं। गांव का आंगनबाड़ी केंद्र सेविका व सहायिका की मर्जी के मुताबिक खुलता और बंद होता है। बच्चों को नियमित पोषाहार भी नहीं मिलता। गांव के मुख्य सड़क को छोड़ अन्य सड़कों की हालत जर्जर व दयनीय है। गांव में दो सामुदायिक भवन है।

------------------- कहते हैं ग्रामीण

प्रधानमंत्री ग्राम स्वराज योजना के तहत गांव का चयन होने के बावजूद कनकपुर गांव के विकास में लंबा वक्त लग रहा है। गांव की छोटी सड़कें अतिक्रमण का शिकार है।

जंगल यादव

-------------- जल निकासी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं रहने के कारण गांव में लगने वाली जल जमाव आम समस्या है । दर्जनों परिवार राशन कार्ड से वंचित हैं।

चंदा देवी

---------------- ¨सचाई के संसाधन के अभाव में कृषि व्यवस्था चौपट हो गई है। एनएच-57 में पड़ने वाले सैकड़ों किसानों को अब तक मुआवजा नहीं मिल पाया है।

समाजसेवी अघनू यादव

----------------- गांव की शिक्षा व्यवस्था प्रशासनिक उदासीनता के कारण चौपट है । ¨सचाई के संसाधन की कमी के कारण कृषि प्रभावित है। सात निश्चय योजना के तहत छोटी बड़ी सड़कें बनाई जाएंगी। पंचायत में हर घर नल का जल की शुरूआत इसी गांव से की गई है।

राजेश पासवान,मुखिया

------------

गांव का नाम - कनकपुर

पंचायत - नरपतिनगर

वार्डरू. दो

गांव की आबादी - 3500

मतदाता -1500

सा8रता - 50 प्रतिशत

स्कूल -एक मध्य विद्यालय

सामुदायिक भवन- दो

आंगनबाड़ी केंद्र - दो

सरकारी सेवा में - लगभग चार दर्जन

बेरोजगार - चार सौ

स्वास्थ्य केंद्र - नहीं है

मंदिर - बाबा कर्णकेश्वरनाथ

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप