मधेपुरा। सुहागिन महिलाओं द्वारा भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाए जानेवाला हरितालिका तीज काफी हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शहर से लेकर गांव तक की विवाहित महिलाओं ने पतियों की लंबी उम्र की कामना करते हुए पर्व मनाया। महिलाओं ने बताया कि हरितालिका तीज पर्व पति की दीर्घायु होने की कामना को लेकर मनाया जाता है। इसमें विवाहित महिलाएं करीब 24 घंटे से भी अधिक समय तक निर्जला रह कर उपवास करती है। इस अवसर पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना की जाती है। इस पूजा में बेलपत्र, धूप, दीप व प्रसाद लेकर सुहागिन स्त्री अपने वैवाहिक रिश्ते के प्रति समर्पित होकर पूजा अर्चना करते हुए अक्षय सुहाग की मनोकामना भी करती है। इस दिन महिलाएं अपने घरों में पकवान में ठेकुआ और पड़ोकिया बनाती है। बांस की खपच्चीवाली लाल डलिया में सभी प्रकार के फल और पकवान देकर उसे भरकर पूजा स्थल पर रखकर पूजा व कथा करवाती है।

Posted By: Jagran