संवाद सूत्र, सिंहेश्वर (मधेपुरा) : बीएनएमयू मुख्यालय स्थित बीएड विभाग में 18 जनवरी को शिक्षक बहाली को लेकर आयोजित इंटरव्यू के चार दिन बाद भी चयनित अभ्यर्थियों की सूची प्रकाशित नहीं किए जाने पर वाम छात्र संगठन एआइएसएफ की बीएनएमयू इकाई ने एतराज जताया है। बहाली में गोलमाल करने और चेहतों को सेट करने की आशंका व्यक्त की है। संगठन के बीएनएमयू प्रभारी हर्ष वर्धन सिंह राठौर ने कहा कि अगर प्रक्रिया में पारदर्शिता होती तो नियमानुसार इंटरव्यू के तत्काल बाद ही सूची प्रकाशित हो जाती। लेकिन लगातार मांग के बाद भी अभी तक सूची प्रकाशित नहीं होना दर्शाता है कि अंदर कुछ गड़बड़ चल रहा है। छात्र नेता राठौर ने कहा कि एआइएसएफ सहित अन्य संगठनों के लगातार आंदोलन के बाद बहाली की प्रक्रिया शुरू हुई। लेकिन बहाली के लिए जारी विज्ञापन में रोस्टर की जानकारी नहीं दी थी। अब सूची प्रकाशित होने में विलंब से यह साफ हो गया है कि यह जानबूझकर किया गया था। एआइएसएफ नेता राठौर ने मांग किया कि अविलंब सूची प्रकाशित किया जाए अन्यथा संगठन इसको लेकर मंगलवार से आंदोलन की शुरूआत करेगा। राठौर ने आश्चर्य व्यक्त किया कि 29 जनवरी तक शिक्षा शास्त्र विभाग को हर हाल में पीएआर रिपोर्ट जमा करना है ऐसे भी सूची यथा शीघ्र प्रकाशित नहीं करना बता रहा है कि पदाधिकारी विभाग की मान्यता बहाल करने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। विभाग की लेट लतीफी के कारण बहाली प्रक्रिया में भाग लेने वाले अभ्यर्थियों में भी यह शक बढ़ने लगा है कि वहां अपनों को सेट करने की खिचड़ी पक रही है। वहीं एआइएसएफ नेता राठौर ने मांग किया कि बहाल हुए शिक्षकों की सूची अविलंब प्रकाशित करते हुए नन टीचिग स्टाफ की बहाली की प्रक्रिया भी अविलंब पूरी की जाए।

Edited By: Jagran