मधेपुरा। जमीन कब्जे को लेकर हुई हिसक झड़प में दूसरे पक्ष के मुख्य आरोपित का नाम हटाने को लेकर वरीय पदाधिकारियों से शिकायत की गई है। छह जुलाई को हुई इस घटना में एसडीपीओ स्वयं घटनास्थल पर गए थे। वहां जाकर बगल के इंडेन गेस एजेंसी में लगे सीसीटीवी को भी देखा, लेकिन पर्यवेक्षण टिप्पणी में सीसीटीवी का न तो जिक्र किया गया है न इसकी पड़ताल के कोई निर्देश दिया गया है। पर्यवेक्षण में मुख्य आरोपित के नाम को हटाने को लेकर सूचक पक्ष ने वरीय पदाधिकारी से शिकायत की है। सूचक पक्ष की तरफ से अंकिता देवी ने एसपी, डीआइजी व डीजीपी को पत्र भेजकर बताया कि पहुंच व पैरवी के बल पर कांड से मुख्य आरोपित पवन यादव व इनके पुत्रों का नाम हटा दिया गया है। वरीय पदाधिकारियों को दिए आवेदन में बताया है कि सारी घटना घटनास्थल के बगल में स्थित इंडेन गैस एजेंसी के सीसीटीवी कैमरा में कैद है। वहीं दिए आवेदन में बताया है कि इस घटना के बाद उल्टे एक मुकदमा इन लोगों के विरूद्ध भी दर्ज करा दिया गया है।

बताते चलें कि छह जुलाई को सचेंद्र यादव के घर जमीन कब्जे को लेकर गोली व तीर चली थी। इसमें चार लोग जख्मी हो गए थे। मामले में गम्हरिया बीएओ समेत पांच नामजद व 32 अज्ञात के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई थी। दूसरे पक्ष की तरफ से भी प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप