संवाद सूत्र, बिहारीगंज (मधेपुरा) : केंद्र और राज्य सरकार स्वच्छता को लेकर काफी गंभीर है। इसके बावजूद बिहारीगंज बाजार में सार्वजनिक शौचालय व पेयजल की सुविधा का अभाव है। इस वजह से दुकानदारों, ग्राहकों व आमलोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। मुख्य बाजार के जवाहर चौक, गांधी चौक, शास्त्री चौक, गुदड़ी बाजार, जेनरल हाट, विश्वकर्मा चौक, सुभाष चौक सहित अन्य स्थलों पर शौचालय का अभाव है, जबकि कृषि उत्पादन बाजार समिति के मुख्य द्वार के समीप वर्षों से निर्मित एक शौचालय दम तोड़ चुका है। वहीं, जनरल हाट के पास थाने से सटे शौचालय अतिक्रमण का शिकार बना हुआ है।

शौचालय के साथ ही बाजार में मूत्रालय व शुद्ध पेयजल का भी अभाव बना हुआ है। कई स्थलों पर चापाकल तो लगे हैं, लेकिन चापाकल से अत्यधिक लौहयुक्त पानी निकलता है जो स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसानदेह है। दुकानदार तो जार वाला फिल्टर युक्त पानी खरीदकर पीने के लिए रखते हैं, लेकिन ग्राहकों को शौचालय व मूत्रालय व शुद्ध पेयजल जैसी मूलभूत सुविधाओं से जूझना पड़ता है। इस समस्या को लेकर स्थानीय प्रशासन और जनप्रतिनिधियों द्वारा बिल्कुल ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इस समस्या को लेकर दुकानदार पिकू साह, पंकज साह, संतोष जायसवाल, मुरारी अग्रवाल, मनीष कुमार, मोहन ठाकुर, मुन्ना सिंह, संजय सेठिया, सुबोध अग्रवाल, मु. नजाम आदि का कहना है कि बिहारीगंज को नवगठित नगर पंचायत में परिणत कर दिया गया है। इसके बावजूद बाजार में शौचालय व मूत्रालय का अभाव अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के उदासीनता को दर्शा रहा है।

इस संबंध में बीडीओ प्रकाश कुमार का कहना है कि पूर्व में शौचालय निर्माण कराने की पहल की गई थी, लेकिन बाजार में जगह उपलब्ध नहीं होने के कारण निर्माण नहीं किया जा सका था। इधर बिहारीगंज नगर पंचायत होने के कारण कार्यपालक पदाधिकारी इस समस्या का निदान करेंगे।

Edited By: Jagran