मधेपुरा। जिला पदाधिकारी के निर्देश पर मंगलवार को डीसीओ अरविद पासवान ने उदाकिशुनगंज अनुमंडल के विभिन्न राईस मिलों का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान मिलों की स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त की। कई बिदुओं पर मिलरों के साथ बात की। मिलरों को जरूरी निर्देश दिए। वहीं डीसीओ ने मिलरों को हड़काया।

उन्होंने का घटिया चावल मिलने की शिकायत पर मिलरों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि चावल की गुणवत्ता से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा। निरीक्षण के दौरान मिल को अपग्रेड किये जाने का निर्देश दिया गया। निरीक्षण के दौरान मिल को चालू कर देखा गया। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि चावल के क्वालिटी में किसी भी तरह की शिकायत बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मानक के मुताबिक चावल नहीं पाए जाने पर संबंधित मिलों को ब्लैक लिस्टेड करते हुए कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने सभी मिलरों को चेतावनी देते हुए कहा कि अपने अपने मिलों को अपग्रेड करें, अन्यथा रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाएगा। डीसीओ ने बताया कि उदाकिशुनगंज के दिव्य प्रकाश राईस मिल, अनुमंडल के स्वाति राईस मिल, नरसिंह राईस मिल, रंजना राईस मिल और सूरज राईस मिल का बारी बारी से निरीक्षण किया गया और आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया। उन्होंने इस बार होने वाले धान अधिाप्रप्ति को लेकर विशेष रूप से चर्चा की। उन्होंने कहा की धान की फसल तैयार होने वाला है। एक नवम्बर से धान खरीद शुरू हो जाएगी। पैक्स अध्यक्षों को सरकारी निर्देश के मुताबिक धान अधिप्राप्ति करना है। किसानों को किसी भी प्रकार का दिक्कत नहीं होना चाहिए। धान अधिप्राप्ति कार्य कृषि विभाग के पोर्टल पर निबंधित किसान से किया जाएगा। धान अधिप्राप्ति हेतु इच्छुक किसान अभी से प्रक्रिया अपना ले। ताकि किसानों को समुचित लाभ मिल सके। किसान विभाग के वेबसाइट पर निबंधन करा लें।

उन्होंने ने बताता कि जो पूर्व से निबंधित किसान है, उनके लिए एक अक्टूबर से ही प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। वेबसाइट पर कागजी प्रक्रिया नवंबर तक चलेगी। तय समय पर भूमि संबंधी विवरण की प्रविष्टि पोर्टल पर करेंगे। धान का समर्थन मूल्य 1940 प्रति क्विंटल तय किया गया है। मौके पर सहकारिता प्रसार पदाधिकारी मुख्यालय अमित भारती, बीसीओ बिहारीगंज प्रभाष कुमार, उदाकिशुनगंज के दिव्य प्रकाश, बलराम कुमार, राजेश कुमार, सुनील कुमार, रविमन्यु कुमार, आदित्य रंजन, रणविजय कुमार सिंह आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran