लखीसराय। जिलाधिकारी के बार-बार निर्देश देने के बाद स्वास्थ्य विभाग विगत पांच वर्षों से सदर अस्पताल स्थित बंद पड़े ब्लड बैंक को चालू कराने के लिए सक्रिय हुआ है। छह दिसंबर 2017 को केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन पूर्वी खंड कोलकाता के केंद्रीय औषधि निरीक्षक नीरज कुमार एवं स्थानीय औषधि निरीक्षक रवींद्र मोहन ने बीस ¨बदु पर ब्लड बैंक का निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान केंद्रीय औषधि निरीक्षक द्वारा ब्लड बैंक में सुधार करने का दिए गए निर्देश के अनुसार स्वास्थ्य विभाग द्वारा ब्लड बैंक की कमियों को दूर किया जा रहा है।

====

ब्लड बैंक में होने वाले सुधार

केंद्रीय औषधि निरीक्षक द्वारा ब्लड बैंक में संबंधित वांछित योग्यता वाले चिकित्सक को ब्लड बैंक का चिकित्सा पदाधिकारी बनाने का निर्देश दिया था। इसके आलोक में सिविल सर्जन ने ब्लड बैंक में तीन वर्ष से अधिक समय तक कार्य करने का अनुभव रखने वाले सदर अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राकेश कुमार को ब्लड बैंक में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं डॉ. श्री निवास शर्मा को ब्लड बैंक में चिकित्सा पदाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त किया है। ब्लड बैंक के प्रयोगशाला प्रवैधिकी को प्रशिक्षण दिलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। ब्लड डोनेशन के लिए डोनर कोच एवं ब्लड जांच संबंधी एलिजा रीडर मशीन क्रय करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

====

क्या कहते हैं पदाधिकारी

सिविल सर्जन डॉ. राज किशोर प्रसाद ने बताया कि जल्दी ही मानक के अनुसार ब्लड बैंक को तैयार कर लिया जाएगा। इसके बाद औषधि निरीक्षक के माध्यम से राज्य रक्ताधान परिषद के निदेशक, ड्रग कंट्रोलर एवं केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन को रिपोर्ट भेजा जाएगा। इसके बाद राज्य रक्ताधान परिषद एवं केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण की अनुशंसा के बाद ब्लड बैंक की अनुज्ञप्ति मिलेगी।

Posted By: Jagran