मृत्युंजय मिश्रा, लखीसराय। Amazing marriage : इंटरनेट मीडिया के सर्वाधिक यूज किए जाने वाले प्लेटफार्म फेसबुक पर पहले दोस्ती हुई। धीरे-धीरे दोस्ती प्यार में बदल गई। प्यार के बाद बात शादी तक पहुंच गई। एक साथ जीने-मरने की कसमें खाई जाने लगी। शादी के लिए साल भर तक टाल-मटोल चलता रहा, लेकिन अब और इंतजार नहीं किया जा सकता था। लड़के का दबाव लड़की पर शादी के लिए बढ़ता गया और फिर धीरे-धीरे वह घड़ी आ गई, जिसका इंतजार साल भर से किया जा रहा था, लेकिन जिस दिन का इंतजार साल वर्ष से बेसब्री से किया जा रहा था उसका अंत दर्दनाक होगा, इसका अंदाजा लड़के और उसके परिवार के लोगों को नहीं था। मामला बेहद चौंकाने वाला रहा, जिसे जानने के बाद दूल्हे का दिल पूरी तरह टूट गया है।

काेलकाता से गांव पहुंचा दूल्हा, निकली बरात

इंटरनेट मीडिया से दोस्ती और प्रेम करने वाले लड़के और लड़की दोनों लखीसराय जिले के पिपरिया प्रखंड अंतर्गत सैदपुरा पंचायत के ही हैं। ये अलग बात है कि लड़का कोलकाता में ड्राइवर है और लड़की अपने गांव में रहती है। दोनों में फेसबुक से दोस्ती हुई। बात करते-करते दोनों की दोस्ती प्यार में बदल गई फिर बात शादी तक आ गई। लड़का कोलकाता से अपने गांव पहुंचा। अपने परिवार से सारी बातें कही और शादी की तारीख भी नवंबर के आखिरी सप्ताह में तय हो गई। 24 नवंबर 2022 को घर से बारात निकली और मंदिर पहुंचकर शादी भी हो गई। इस शादी के साक्षी न सिर्फ भगवान भोलेनाथ बने, बल्कि लड़का पक्ष के दर्जनों लोग भी बने। गीत-संगीत के साथ ही भोज-भात भी हुआ। फिर बेटी विदाई की रस्म भी हुई।

दुल्हन लगी द्वार हुआ स्वागत

मंदिर में शादी के बाद बारात वापस लौटी। वर-वधू भी द्वार लगे और दोनों का स्वागत भी हुआ। परंपरा के अनुसार, महिलाओं ने गालसेदी की। कोहबर की रस्म हुई। शादी की पहली रात को दूल्हा अपनी दुल्हन का दीदार करने को बेताब था चूंकि साल भर से उसे इस दिन का इंतजार था। उधर किसी तरह रात गुजरे इस इंतजार में दुल्हन थी। दूल्हे से आज नहीं कल मिलन की गुजारिश करते-करते सुबह हो गई। इसके बाद जो कुछ हुआ इसका अंदाजा किसी को नहीं था।

शादी की अगली सुबह दुल्हन हो गई फुर्र

सुहागरात की अगली सुबह दूल्हा और उसके घर वाले कुछ समझ पाते उससे पहले दुल्हन फुर्र हो गई। अचानक वह कहां गई इसे लेकर उसकी खोज शुरू हो गई। फिर भी कहीं पता नहीं चला। दूल्हे को कभी उसने बातचीत में अपने गांव का नाम बताई थी। इसलिए वह कुछ लोगों के साथ दुल्हन के गांव पहुंच गए। यहां सबकुछ बदला-बदला सा दिख रहा था। गांव में काफी भीड़ लगी थी। सबके चेहरे पर गुस्सा का भाव था। आखिर बिना पूछे इतना बड़ा कदम किसी लड़केवाले ने कैसे उठा लिया। यह सवाल सबके मन में थे। कुछ पूछताछ शुरू हुई तो पूरे कांड का पटाक्षेप हो गया।

हकीकत में दुल्हन बनी लड़की निकला लड़का

दुल्हन की खोज में जब दूल्हा और उसके पक्ष के लोग दुल्हन के गांव पहुंचे थे तो कहानी कुछ और निकली। दरअसल जिस दुल्हन से दूल्हे की शादी हुई थी वह लड़की नहीं लड़का था। वह बड़े-बड़े बाल रखता था और काजल नाम से अपना फेसबुक प्रोफाइल चलाता था। मात्र 15-16 की उम्र का किशाेर रहने के कारण मोबाइल पर आवाज भी लड़की सी थी। दाढ़ी-मूंछ नहीं रहने एवं लंबे-लंबे बाल रहने के कारण वीडियो काल में भी कभी उसकी पहचान लड़के के रूप में नहीं हो सकी। उधर प्रेमी सीरियस था और इधर प्रेमिका की काल्पनिक कहानी थी। दोस्ती, प्यार और फिर ब्याह की इस कहानी की चर्चा चहुंओर है।

लंबे बाल काटकर काजल काे बनाया गया रूपेश

पूरी कहानी का पटाक्षेप होने के बाद भी दूल्हा अपनी दुल्हन के लिए बेताब था। वह हर हाल में अपने प्यार को अपने साथ ले जाना चाहता था, लेकिन दुल्हन के परिवारवालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं था। दुल्हन यानी फेसबुक की काजल के लंबे-लंबे बाल को उसके घरवालों ने कटवाया। उसे काजल से रूपेश बनाया गया। दरअसल काजल का नाम रूपेश ही है। ऐसा नहीं कि रूपेश किन्नर है, बल्कि वह पुरुष है। सिर्फ फेसबुक के खेल-खेल में उसने प्रेम की अजीबोगरीब कहानी लिख डाली।

Edited By: Dilip Kumar shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट