संवाद सहयोगी, किशनगंज : नंद किशोर अग्रवाल के गोले में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस डकैतों की पहचान में जुट गई है। लेकिन घटना को अंजाम देने के वक्त अधिकांश अपराधियों के चेहरे ढ़ंके होने के कारण पुलिस को अपराधियों की पहचान में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। पुलिस अपराधियों के भागने की दिशा में लगे सीसीटीवी को भी लगातार खंगाल रही है। प्राप्त सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस का मानना है कि एक दर्जन से अधिक अपराधी घटना को अंजाम देने पहुंचे थे।

Posted By: Jagran