कटिहार, जेएनएन। कटिहार-बरौनी रेलखंड पर सेमापुर ओपी क्षेत्र के घुसकी गांव के समीप लालपुल पर डाउन सीमांचल एक्सप्रेस की चपेट में आने से तीन युवकों की मौत हो गई। जबकि ट्रेन आता देख तीन अन्य ने भागकर किसी तरह अपनी जान बचाई। मृतकों में दो युवक बकरीद के त्योहार पर अपने ससुराल घुसकी आये थे।

दो युवकों का शव रेल की पटरी पर से क्षत विक्षत हालत में बरामद किया गया। एक अन्य के नदी में गिर जाने के कारण घंटों बाद उसका शव बरामद किया जा सका। मृतकों में दो युवक कोढ़ा थाना क्षेत्र तो एक युवक घुसकी गांव का ही रहने वाला था। 

मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार की सुबह छह युवक रेल ट्रैक होकर लालपुल पार कर रहे थे। इसी बीच एक युवक मोबाइल पर बात करने लगा। ट्रेन आता देख साथ चल रहे अन्य युवकों ने चिल्लाना शुरू किया। ट्रेन की चपेट में आने से कोढ़ा प्रखंड के ध्वजाघाट निवासी शाहजहां 28 वर्ष, सिमरिया निवासी सरमाजुल हक 24 वर्ष तथा घुसकी निवासी शहाबुद्दीन 15 वर्ष की कटने से मौत हो गई।

वहीं, घुसकी निवासी जान मोहम्मद, मतफुर एवं तकसीर आलम ने पुल के गार्डर के सहारे लटक कर किसी तरह अपनी जान बचाई। शाहजहां व सरमाजुल बकरीद मनाने घुसकी स्थित अपने ससुराल आया था। सूचना मिलते ही सहायक पुलिस व रेल पुलिस मौके पर पहुंची। परिजनों ने शव का अंत्यपरीक्षण कराने से इंकार किया।

जिलाधिकारी पूनम, पुलिस अधीक्षक विकास कुमार, रेल एसपी दिलीप कुमार मिश्रा व सदर अनुमंडलाधिकारी नीरज कुमार घुसकी गांव पहुंचे। डीएम, एसपी ने शव का अंत्यपरीक्षण कराने के लिए परिजनों को समझाया। इसके बाद परिजन शव का अंत्यपरीक्षण कराने को तैयार हुए। इस घटना से पूरे गांव में कोहराम मचा रहा। 

 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kajal Kumari