जागरण संवाददाता, कटिहार: जिलाधिकारी उदयन मिश्रा ने बाढ़ व कटाव की अद्यतन स्थिति की समीक्षा बैठक में कई अहम निर्देश जारी किये। डीएम ने कहा कि फ्लड फाइटिग के साथ ही नदियों की सफाई भी इस एजेंडे में शामिल किया जाएगा। चार जुलाई को सभी एसडीओ, सीओ व बीडीओ के साथ वीडियो कांफेंसिग के माध्यम से होने वाली बैठक में इसपर विस्तार से चर्चा की जाएगी।

बैठक में कटिहार, सालमारी और काढ़ागोला बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि नदियों में गाद जमा है। डीएम ने कहा कि नदी से गाद निकालकर इसका उपयोग सैंड फीलिग के कार्य में करें। इससे नदियों की सफाई होने के साथ ही बांध की सुरक्षा भी होगी। विभागीय अभियंताओं ने बैठक में बताया कि कदवा, आजमनगर, बलरामपुर एवं अमदाबाद में तटबंध के समीप भी कहीं कहीं कटाव हो रहा है। कटाव निरोधी कार्य किया जा रहा है। अमदाबाद के बेलगच्छी, झब्बुटोला में कटाव निरोधी कार्य किए जाने की जरूरत पर बल दिया गया। आपदा प्रबंधन के प्रभारी पदाधिकारी ने कहा कि जिलाधिकारी के स्तर से इस मामले में बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के मुख्य अभियंता को पत्र लिखा गया है। कदवा, आजमनगर, बारसोई एवं प्राणपुर प्रखंड में महानंदा नदी के जलस्तर में उतार चढ़ाव के बाद बाढ़ के पानी का फैलाव होने लगा है। बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल सालमारी के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि कदवा में टूटे नरगदा डायवर्सन की मरम्मत का काम युद्धस्तर पर किया जा रहा है। डीएम ने कहा कि 24 घंटे के भीतर मरम्मत कार्य पूरा कर आवागमन चालू कराएं।

इस मौके पर अपर समाहर्ता विजय कुमार, कटिहार, काढ़ागोला व सालमारी बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी मौजूद थे।

नदियों की सफाई भी प्राथमिकता सूची में करें शामिल

जिलाधिकारी ने कहा कि बाढ़ निरोधात्मक कार्य के साथ ही नदियों की सफाई को भी प्राथमिकता सूची में शामिल करें। नदियों में गाद जमा होने से जलस्तर में मामूली वृद्धि होने से भी पानी का फैलाव होने लगता है। उन्होंने बाढ़ नियंत्रण विभाग के कार्यपालक अभियंताओं को कहा कि नदियों से गाद निकालकर तटबंध व बांध के आस पास निकाले गए बालू को भरने का काम करें।

Edited By: Jagran