कटिहार। शनिवार की संध्या बरारी क्षेत्र से पोस्टमार्टम कराने आए मृतक के स्वजनों द्वारा सदर अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक के साथ हाथापाई करने का मामला प्रकाश में आया हैं।

सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने आए मृतक के स्वजनों ने चिकित्सक डा. दीपक कुमार पर पोस्टमार्टम करने का दवाब बनाया। जिस पर चिकित्सक के द्धारा स्वजनों को बताया गया कि शाम पांच बजे के बाद पोस्टमार्टम नहीं करने का निर्देश हैं। ऐसे में जब तक जिलाधिकारी का आदेश नहीं मिलता हैं, तब तक पोस्टमार्टम नहीं कर पाएंगे। इसी बात को लेकर मृतक के स्वजनों ने जमकर बवाल काटा ओर चिकित्सक डा. दीपक कुमार के साथ हाथापाई की।

इधर प्रताड़ित चिकित्सक ने सीएस को लिखित आवेदन दिया हैं। वही रविवार को सभी चिकित्सकों ने एक जुट होकर इसका विरोध किया।

बैठक में संघ ने घटना की निदा की: चिकित्सक के साथ हाथापाई करने को लेकर बिहार स्वास्थ सेवा संघ के जिला शाखा की आपात बैठक रविवार को सदर अस्पताल स्थित डीएस कार्यालय में हुई। बैठक की अध्यक्षता संघ के अध्यक्ष डा. डीएन पांडे ने की। बैठक में शनिवार की शाम पोस्टमार्टम मामले को लेकर चिकित्सक डा. दीपक कुमार के साथ शव का पोस्टमार्टम कराने आए स्वजन व अन्य के द्धारा हाथापाई करने के मामले को लेकर निदा प्रस्ताव पारित किया गया। संघ के संचिव डा. आर सुमन ने बताया कि बैठक में प्रस्ताव लिया गया कि आगे जो भी शाम के समय पोस्टमार्टम कराने आएंगे। उसका पोस्टमार्टम डीएम के आदेश पत्र के बाद ही होगा।

बताना होगा कि सदर अस्पताल में शनिवार की शाम समेली के एक शिक्षक का पोस्टमार्टम कराने देर शाम स्वजन पहुंचे थे। इस दौरान ड्यूटी में तैनात चिकित्सक ने द्वारा डीएम का आदेश पत्र मांगने पर स्वजन व अन्य लोगों के साथ मामला नोंक झोंक के साथ हाथापाई तक पहुंच गया। इधर डीएम के आदेश पर रात में ही पोस्टमार्टम कर दिया गया। लेकिन चिकित्सक के साथ बदसलुकी मामले को लेकर शाम में स्वास्थ्य सेवा कुछ देर के लिए ठप रहा। इस मामले में पीड़ित चिकित्सक ने लिखित आवेदन नगर थाने में दिया है। वही रविवार को बिहार स्वास्थ संघ के द्धारा घटना को लेकर जिला मुख्यालय सहित प्रखंड के विभित्र पीएचसी में भी पल्स पोलिया अभियान का उद्घाटन समारोह भी नहीं हो पाया। इस बैठक में डा. एके देव, डा. प्रेम रंजन, डा. शशि किरण, डा. विपिन कुमार, डा. जिपो लाल सहित कई चिकित्सक मौजूद थे।

Edited By: Jagran