मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रखंड क्षेत्र के सिकंदरपुर पंचायत वार्ड संख्या 13 अजा बस्ती में पानी की सबसे ज्यादा समस्या है। इस पूरे वार्ड में लगभग डेढ़ सौ के करीब परिवार रहते हैं। कुल आबादी दो हजार है। इन सभी को पानी पीने की व्यवस्था के नाम पर मात्र एक सबमर्सिबल लगा हुआ है। जो कि बिजली के भरोसे रहती है। अन्य पांच चापाकल बंद हैं। जिसे बनाया नहीं जा सकता। पानी एवं अन्य कार्यों के लिए पानी की व्यवस्था के नाम पर घंटों लोग लाइन में खड़ा रहते हैं। तब उन्हें पानी मिल पाता है।

इस संबंध में स्थानीय ग्रामीण महिला व पुरुष का कहना है कि वार्ड संख्या 13 में कहने को तो पांच हैंडपंप लगे हुए हैं, लेकिन सभी खराब हैं। पूर्व मुखिया अनिल सिंह के द्वारा एक हैंड पंप में सबमर्सिबल लगवा दिया गया था। उसी सबमर्सिबल से पूरे वार्ड के लोग पानी भरते हैं। जिस कारण वार्ड संख्या 13 के सभी ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। क्योंकि बिजली की व्यवस्था गर्मी के समय में काफी खराब रहती है। कब आती है कब जाती है पता नहीं चलता है। बिजली नहीं रहने की स्थिति में बूंद-बूंद पानी को लोग तरस जाते हैं। जब बिजली आती है तो काफी लंबी लाइन लग जाती है और घंटों इंतजार करना पड़ता ह। कभी-कभी तो ऐसी स्थिति आती है कि ग्रामीण पानी भरने के लिए आपस में झगड़ा कर लेते हैं। हम लोगों ने कई बार पंचायत के मुखिया अंजुम बेगम से वार्ड में नया हैंडपंप बोरिग करवाने को कहा। लेकिन एक भी बोरिग नहीं करवाया गया। अगर एक भी हैंडपंप चालू हालत में रहता तो बिजली नहीं रहने पर कम से कम लोग उसी के सहारे पानी तो भर सकते थे। वहीं वार्ड संख्या 13 के वार्ड मेंबर पन्ना देवी का कहना है कि मुखिया को हमने कई बार इस वार्ड में नल जल का कार्य करवाने के लिए कहा। लेकिन उनका कहना है कि पहले चयनित वार्ड में ही नल जल का कार्य होगा। जबकि इस अजा बस्ती में पानी की सबसे ज्यादा समस्या है। बावजूद इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप