जिला मुख्यालय भभुआ नगर में सुवरन नदी के पास बने जननायक कर्पूरी ठाकुर छात्रावास में रह रहे अवैध रूप से छात्रों को प्रशासन ने आखिरकार बाहर का रास्ता दिखा ही दिया। बार-बार खाली करने की नोटिस देने के बावजूद छात्रों द्वारा खाली करने की दिशा में कोई पहल नहीं होते देख डीएम के निर्देश पर दंडाधिकारी की मौजूदगी में रविवार को उक्त कार्रवाई की गई। इस कार्रवाई में छात्रावास में अवैध रूप से रह रहे दो दर्जन से अधिक छात्रों को बाहर किया गया। इस दौरान बाहर निकाले गए छात्र अपने-अपने सामान को बोरा में समेट कर जाते दिखाई दिए। इस दौरान पुलिस प्रशासन और छात्रों के बीच कुछ कहा सुनी भी हुई। बता दें कि भभुआ नगर में स्थित जननायक कर्पूरी ठाकुर छात्रावास पिछड़े वर्ग के छात्रों के लिए बना है। जिसमें जिला कल्याण विभाग द्वारा आवंटित छात्रों को रहने के लिए अधिकृत किया जाता है। वर्तमान समय में निर्धारित छात्रों के अलावा लगभग दो दर्जन से अधिक छात्र छात्रावास में अवैध रूप से रह रहे थे। अवैध रूप से रह रहे छात्रों को जिला प्रशासन द्वारा 21 दिसंबर तक छात्रावास खाली करने की बात कही गई थी। बावजूद छात्रावास अवैध छात्रों द्वारा नहीं खाली किया गया। जिससे प्रशासन को कड़ा रूख अख्तियार कर अवैध छात्रों को बाहर करना पड़ा। इस कार्रवाई के संबंध में पूछे जाने पर जिला कल्याण पदाधिकारी राजीव रंजन प्रसाद ¨सहा ने बताया कि उक्त छात्रावास में अवैध रूप से रह रहे छात्रों का मामला विधानसभा में उठाया गया था। जिसके आलोक में विभागीय सचिव द्वारा छात्रावास को खाली कराने के लिए डीएम को पत्र लिखा गया था। जिलाधिकारी ने छात्रावास खाली कराने के लिए एसडीओ भभुआ को निर्देश दिया था। जिलाधिकारी के आदेश पर उक्त कार्रवाई की गई है। उन्होंने कहा कि अवैध रूप से रह रहे छात्रों द्वारा छात्रावास भवन में बिजली के वाय¨रग के अलावा बिजली के उपकरणों को भी क्षति पहुंचाया गया है। साथ ही अवैध रूप से हीटर लगा कर बिजली का उपयोग किया गया है। जिसका लगभग तीन लाख रुपये बिजली का बिल हो गया है। इस मौके पर सीओ अजय कुमार श्रीवास्तव, थानाध्यक्ष सत्येंद्र राम, बीडब्ल्यूओ बजरंग प्रताप ¨सह के अलावा काफी संख्या में पुलिस बल के जवान मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप