भभुआ। प्रखंड के लोहंदी गांव में स्थित उत्क्रमित विद्यालय में एमडीएम बनाने वाले कमरा का शेड कुछ माह पहले ही टूट गया था। लेकिन अब तक किचेन के शेड को नहीं बदला गया। सरकारी स्कूल के सभी विद्यार्थियों को एक बार फिर से धुएं युक्त माहौल में पढ़ाई करनी पड़ रही है। खास बात यह है कि प्रखंड के सरकारी स्कूल में जहां किचेन का शेड टूटा हुआ है। वहीं दूसरी ओर किचेन शेड के मरम्मत न होने के कारण बच्चों के पढ़ने के लिए बनाए गए कमरा में भोजन पकाया जा रहा हैं। जिससे बच्चे धुआं में पढ़ने को मजबूर हैं। विद्यालय के ज्यादातर बच्चे धुएं के कारण से बीमार हो रहे हैं। साथ ही साथ धुएं का प्रभाव पढ़ने वाले बच्चों की आंखों पर भी पड़ रहा है। विदित हो कि बरसात शुरू होते ही टूटे हुए किचेन शेड बदलने के लिए बीईओ मालती नगीना से कहा गया था। लेकिन बरसात बीतने वाला है, अब तक कोई सुधारात्मक कार्यवाही नहीं हुई। बीईओ व शिक्षा विभाग के अधिकारी द्वारा कई बार विद्यालय का दौरा किया गया लेकिन अभी तक शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया।

Posted By: Jagran