लॉकडाउन के दौरान जिले में भी बाहर के कई लोग फंसे हैं। इसमें कुछ तो चोरी से चले गए। लेकिन कुछ अभी भी फंसे हैं। जो जिला प्रशासन से अपने घर पहुंचाने की गुहार लगा रहे हैं। छुट्टी का दिन होने के बावजूद रविवार को जहानाबाद जिले के मजदूर समाहरणालय पहुंच कर आवेदन दिए और अपने घर पहुंचाने की गुहार लगाए। समाहरणालय पहुंचे जहानाबाद जिले के धनधराबिघा गांव के तीन महिला सहित छह मजदूरों ने जिला नियंत्रण कक्ष में नोडल पदाधिकारी को आवेदन दिया। आवेदन देने वाले मजदूर फेकू बिद ने बताया कि लॉकडाउन के पहले हमलोग चैनपुर प्रखंड के देउवां गांव में ठेकेदारी में काम कर रहे थे। अचानक कोरोना को लेकर लॉकडाउन हो गया है। जिसके चलते हमलोग जा नहीं सके। अब काम नहीं होने से पैसा नहीं मिल रहा है और जो पैसा था वह भी खत्म हो गया है। इसलिए अब खाने-पीने की समस्या उत्पन्न हो गई है। उन्होंने बताया कि मेरे साथ सोनू बिद, राम प्रवेश बिद, अश्विनी कुमारी, मानसी कुमारी व सैंपी कुमारी हैं। उन्होंने बताया कि लगभग 18 दिनों से बिना काम के यहां बैठे हुए हैं। काम नहीं मिलने से अब एक दिन भी परेशानी भी बीत रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस