जमुई। जिला प्रशासन ने शनिवार को सख्ती दिखाई तो उसका सकारात्मक परिणाम रविवार को सामने आया। आलम यह रहा कि साप्ताहिक बंदी के आदेश का शत प्रतिशत अनुपालन हुआ और शहर की सभी दुकानें पूर्णत: बंद रहीं। सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। प्रशासनिक हनक प्रखंड मुख्यालयों में भी दिखी और वहां भी अधिसंख्य दुकाने बंद रही।

ईद के एक दिन पूर्व कि इस बंदी से त्योहार को लेकर आवश्यक खरीदारी प्रभावित हुई है। राज्य सरकार के निर्देश के आलोक में जिला प्रशासन ने विभिन्न प्रकार की वस्तुओं की दुकानें खोलने के लिए रोस्टर का निर्धारण किया है। रोस्टर के मुताबिक ही रविवार को हर प्रकार की दुकानें बंद रखने का फैसला लिया गया है। बताया गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए एहतियातन यह कदम उठाया गया है। वैसे जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित समय और रोस्टर का उल्लंघन किए जाने की खबरें लगातार आने के बाद बीते 3 दिनों से अनुमंडल पदाधिकारी लखींद्र पासवान तथा एसडीपीओ रामपुकार सिंह द्वारा शहर में कसरत जारी था। लेकिन, सफलता नहीं मिल पा रही थी। आखिरकार शनिवार को प्रशासन ने चार कपड़ा दुकानदारों को उठाकर थाने में डिटेन किया। बाद में चैंबर ऑफ कॉमर्स की पहल तथा आदेश का शत प्रतिशत अनुपालन का भरोसा दिए जाने के बाद उन व्यवसायियों को थाने से छोड़ा गया। रविवार को साप्ताहिक बंदी को लेकर जिला प्रशासन तथा चैंबर ऑफ कॉमर्स की ओर से अलग अलग अनाउंसमेंट भी बाजार में कराए गए थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस