फोटो- 23 जमुई- 27

- पुलिस की दबिश पर अपराधियों ने बांझीकुसुम गांव के पास किया मुक्त

- बेलहर पुलिस ने चिकित्सक से की पूछताछ

संवाद सूत्र, झाझा (जमुई): बेलहर थाना क्षेत्र के चतराहन गांव से अपहृत ग्रामीण चिकित्सक डा. उमेश वर्णवाल रविवार के अहले सुबह घर वापस लौट आया। इसके बाद बेलहर एवं झाझा पुलिस तथा स्वजन ने राहत की सांस ली है। चिकित्सक की रिहाई के पीछे पुलिसिया दबिश बताया जाता है।

21 जनवरी की रात्रि आधा दर्जन अपराधियों ने हथियार के बल से उमेश वर्णवाल को घर के बाहर से अगवा कर लिया था। उमेश वर्णवाल का पैतृक घर रजला गांव है। शनिवार को बेलहर एवं झाझा पुलिस की लगातार छापेमारी के कारण अपराधी दबाव में आ गए और अपराधियों ने रविवार की अहले सुबह तीन बजे चार पहिया वाहन से बांझीकुसुम गांव के पास लाकर छोड़ दिया। उमेश वर्णवाल ने बताया कि चार-पांच की संख्या में अपराधियों ने हथियार सटाकर वाहन में बैठा लिया था और कुछ दूरी पर अपराधियों ने आंख पर पट्टी बांध दिया। जिससे किसी का चेहरा या फिर गाड़ी किस तरफ जा रही है वह पता नहीं चल पाया। लगभग दो घंटे चलने के बाद अपराधियों ने एक कमरे में बंद कर दिया। अपहरण के 30 घंटे के दौरान अपराधियों ने भोजन या फिर कपड़ा आदि चिकित्सक को मुहैया नहीं कराया। रात्रि में अपराधियों ने चिकित्सक को कमरा से बाहर कर गाड़ी में बिठाया और तीन बजे के करीब बांझीकुसुम के पास लाकर छोड़ दिया और घर जाने को कहा। इस दौरान अपराधियों ने किसी प्रकार की फिरौती की मांग नहीं की और न ही चिकित्सक के साथ मारपीट की। उमेश ने बताया कि गाड़ी या फिर कमरे में अपराधी किसी प्रकार का कोई बात नहीं करते थे। कुछ सुनाई नहीं देता था। अपराधियों की मंशा फिरौती मांगने की थी। जिस पर पुलिस ने पानी फेर दिया। उमेश के घर लौटने की खबर रजला के ग्रामीणों को मिली तो गांव के लोगों ने राहत की सांस ली। सभी लोग उससे मिलने चतराहन गांव पहुंच गए। स्वजन ने बताया कि बेलहर पुलिस सवेरे पहुंचकर उमेश वर्णवाल से पूछताछ की।

Edited By: Jagran