जमुई। हर घर बिजली पहुंचाने की कवायद को अंतिम दौर में होने के बाद बिजली बिल को लेकर चर्चा और समीक्षा लाजिमी है। इसी बात को ध्यान में रखकर दैनिक जागरण ने बिजली बिल उपभोक्ताओं तक पहुंचने और पहुंचाने की व्यवस्था की हकीकत पड़ताल करने का अभियान शुरू किया है। पड़ताल के दूसरे दिन जो कुछ तथ्य सामने आया है वह चौंकाने वाला है। बिजली विभाग के अधिकारियों के बयान और आंकड़े में मेल नहीं है। विभागीय अधिकारी पांच से छह फीसदी लोगों को बिजली बिल उपलब्ध नहीं हो पाने की बात बता रहे हैं। इससे विपरीत बिजली विभाग का जो आंकड़ा है उसके अनुसार 50 फीसदी उपभोक्ता अब भी बिजली बिल से वंचित हैं। कुल मिलाकर यह कहें कि आधे से अधिक उपभोक्ता एवरेज बि¨लग के आधार पर ही बिल भुगतान कर रहे हैं, या फिर एक ही बार इनके दरवाजे भारी-भरकम बिजली बिल पहुंचाने की तैयारी विभाग द्वारा की जा रही है। बहरहाल, बिजली बिल निर्गत होने के आंकड़ों पर गौर करें तो शहरी क्षेत्र में लगभग 15 हजार तथा ग्रामीण क्षेत्र में लगभग 76 हजार बिजली बिल उपभोक्ताओं के नाम निर्गत किए जा रहे हैं। यहां बताते चलें कि अभियान के पहले दिन विभाग के कार्यपालक अभियंता सुबोध कुमार ने बताया था कि कुल एक लाख 80 हजार उपभोक्ताओं में मात्र पांच-छह फीसदी उपभोक्ताओं को बिजली बिल नहीं मिल रहा है।

-----------------

ग्रामीण क्षेत्र- जुलाई 2018 अगस्त- 2018

अलीगंज 6968 5662

चकाई 2315 3604

गिद्धौर 7224 5355

जमुई 11623 7330

झाझा 7011 8727

खैरा 9301 6503

लक्ष्मीपुर 7205 5945

मलयपुर 5236 3762

सिकन्दरा 11382 8601

सोनो 7436 10072

-----------------------

कुल 75701 65561

--

शहरी क्षेत्र- जुलाई 2018 अगस्त- 2018

जमुई 11209 11384

झाझा 3553 3410

-----------------------

कुल 14762 14974

--

केस स्टडी- 1

गिद्धौर प्रखंड के कोल्हुआ गांव निवासी नरेश ¨सह के घर दो साल पहले मीटर लगा था। आज तक उनके घर बिल नहीं पहुंचा। फिलहाल, उनका मीटर जल गया है। बिल और मीटर बदलने के लिए विभाग का चक्कर लगा रहे हैं। कुछ ऐसी ही स्थिति कोल्हुआ गांव के निरंजन कुमार की भी है, जिन्हें मीटर लगने के बाद से आज तक बिल प्राप्त नहीं हुआ है।

केस स्टडी- 2

बरहट प्रखंड के नूमर गांव निवासी अर्जुन पंडित, गिद्धौर प्रखंड के रतनपुर निवासी जयशंकर प्रसाद, पतसंडा निवासी सुनील कुमार बर्णवाल की एक जैसी समस्या थी। विभाग में शिकायत के उपरांत समस्या का समाधान किया गया है। उपरोक्त उपभोक्ताओं की एक ही शिकायत थी कि लंबे अर्से तक उन्हें बिजली बिल नहीं मिला। एक बार भारी-भरकम बिजली बिल उन्हें थमा दिया गया।

केस स्टडी- 3

शहरी क्षेत्र के खैरा मोड़, पठान चौक निवासी नरेश कुमार एवं लक्ष्मीपुर निवासी महादेव मंडल को अत्यधिक बिजली बिल की शिकायत दूर कराने के लिए लोक शिकायत निवारण केन्द्र का सहारा लेना पड़ा।

Posted By: Jagran