जहानाबाद। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित मैट्रिक की परीक्षा के दूसरे दिन शनिवार को दोनों पाली की परीक्षा में 10 परीक्षार्थियों को कदाचार में लिप्त पाया गया। इन परीक्षार्थियों को परीक्षा से निष्कासित कर दिया गया। निर्धारित समय से पहले ही परीक्षार्थियों का आना आरंभ हो गया था। जैसे-जैसे समय नजदीक आता गया उनकी संख्या बढ़ती गई।

लड़कियों के परीक्षा केंद्रों पर अभिभावकों की कुछ ज्यादा संख्या देखी गई। सभी परीक्षा केंद्रों पर मुख्यद्वार के समीप सघन तलाशी ली जा रही थी। तलाशी के बगैर प्रवेश की अनुमति नहीं थी।

मुख्यद्वार के बाहर दंडाधिकारी के नेतृत्व में सशस्त्र बलों की प्रतिनियुक्ति की गई थी। इतना ही नहीं सीसीटीवी कैमरे से भी उन्हें गुजरना पड़ रहा था। जैसे ही परीक्षा आरंभ हुई। जिलाधिकारी मनोज कुमार सिंह, एसडीओ डा. नवल किशोर चौधरी, एसडीपीओ असफाक अंसारी, डीईओ सच्चिदानंद प्रसाद के अलाव अन्य प्रशासनिक अधिकारी परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे। जिले के सारे वरीय अधिकारी परीक्षा केंद्रों का भ्रमण कर केंद्राधीक्षकों को आवश्यक निर्देश देते रहे। शिक्षा विभाग के अधिकारी अनिल कुमार सिंह ने बताया कि प्रथम पाली में 9970 परीक्षार्थियों को परीक्षा में शामिल होना था लेकिन 190 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। इस प्रकार पहली पाली में कुल 9771 परीक्षार्थी ही परीक्षा में शामिल हो सके। द्वितीय पाली की परीक्षा में 10258 परीक्षार्थी को परीक्षा में शामिल होना था लेकिन 10113 परीक्षार्थी ही इसमें शामिल हो सके। मसलन 145 परीक्षार्थी द्वितीय पाली की परीक्षा में शामिल नहीं हो सके।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस