गोपालगंज। ऐतिहासिक थावे दुर्गा मंदिर परिसर में मंगलवार को भक्त का धारा बही। इस धारा में श्रद्धालुओं से लेकर पदाधिकारी ओतप्रोत होते रहे। इस दौरान मां थावे भवानी को खिचड़ी का महाभोग चढ़ा कर लोगों के बीच महाप्रसाद का वितरण किया गया। वहीं बंदरों को भी भोज कराया गया। मौका था थावे दुर्गा मंदिर परिसर में मकर संक्रांति पर आयोजित खिचड़ी महाभोग तथा बंदर भोज का। इस महाभोग में शामिल होने के लिए मंगलवार की सुबह से ही लोगों का थावे मंदिर परिसर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। दिन के दस बजे तक हजारों की संख्या में श्रद्धालु थावे दुर्गा मंदिर परिसर पहुंच गए। इस दौरान मां भवानी के जयकारे से पूरा इलाका गूंजता रहा। तभी जिलाधिकारी अनिमेष कुमार पराशर, डीडीसी दयानंद मिश्रा, जिला शिक्षा पदाधिकारी पूनम देवी, डीपीओ स्थापना अनिल कुमार द्विवेदी, ओएसडी राकेश कुमार, सीओ थावे गंगेश झा आदि भी थावे दुर्गा मंदिर परिसर पहुंच गए। इसी के साथ मंदिर के पूर्व पूजा समिति के सदस्य प्रेम केड़िया के तत्वाधान में आयोजित खिचड़ी महाभोग की शुरुआत की गई। सबसे पहले पुजारी हरेंद्र पाण्डेय ने मां थावे भवानी को खिचड़ी का महाभोग चढ़ाया। इसके बाद पदाधिकारियों से लेकर श्रद्धालुओं के बीच महाप्रसाद का वितरण किया गया। इस मौके पर बंदर भोज सभी के आकर्षण का केंद्र बना रहा। बंदर भोज में थावे मंदिर परिसर तथा थावे जंगल में रहने वाले बंदरों को हलवा पूड़ी खिलाया गया। पुजारी ने बताया कि ऐसी मान्यता है कि मकर संक्रांति पर मां थावे भवानी को चढ़ाए गए खिचड़ी का प्रसाद ग्रहण करने से पूरे साल आरोग्य, सुख ,समृद्धि की प्राप्ति होती है। वहीं दूसरी तरफ पूर्व प्रखंड प्रमुख उद्धव प्रसाद यादव ने ठाकुर मंदिर में महाभोग के साथ लंगर का आयोजन किया। सिधेश्वरनाथ मंदिर में भी महाभोग का आयोजन किया गया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021