Move to Jagran APP

PM Awas के लाभुकों को लेकर आया बड़ा अपडेट! जल्दी से कर लें ये काम, वरना पड़ जाएंगे लेने के देने

PM Awas Yojana प्रधानमंत्री आवास योजना से राशि प्राप्त करने के बाद भी आवास निर्माण नहीं कराने वाले लाभुकों को चिह्नित करने का काम शुरू हो चुका है। चिन्हित करने के बाद उनके खिलाफ राशि वसूली के लिए किया जाएगा। इसके लिए नीलाम पत्र वाद दाखिल किया जाएगा। लाभुक को चिह्नित करने के बाद सफेद और लाल नोटिस जारी करने की प्रक्रिया तेज कर दी गई है।

By Mithilesh Tiwari Edited By: Shashank Shekhar Sat, 01 Jun 2024 06:19 PM (IST)
PM Awas के लाभुकों को लेकर आया बड़ा अपडेट! जल्दी से कर लें ये काम (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जागरण संवाददाता, गोपालगंज। छह से सात साल की लंबी अवधि बीतने के बाद भी इंदिरा आवास मद में राशि प्राप्त करने के बाद भी आवास निर्माण नहीं कराने वाले लाभुकों को चिह्नित करने के बाद उनके विरुद्ध राशि वसूली के लिए नीलाम पत्र वाद दाखिल किया जाएगा।

इसके लिए लाभुक को चिह्नित करने के बाद उन पर सफेद व लाल नोटिस जारी करने की प्रक्रिया फिर तेज कर दी गई है। संबंधित अंचल में तैनात सीओ को चिह्नित किए गए लाभुक के विरुद्ध नीलाम पत्र वाद दाखिल करने का निर्देश जारी किया गया है। अब तक 1982 लाभुकों को अंतिम नोटिस जारी किया गया है।

वर्तमान समय में पुराने इंदिरा आवास योजना का स्वरूप बदल गया है। नई व्यवस्था के तहत अब प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के नाम पर लोगों को आवास का पैसा मिल रहा है, लेकिन पूर्व में लोगों को उपलब्ध कराए गए इंदिरा आवासों को पूर्ण कराने के लिए प्रशासनिक स्तर पर बार-बार के निर्देश के बाद भी कई आवासों का नींव स्तर तक का भी निर्माण कार्य नहीं हुआ है।

पैसे लेने के बाद भी आवास निर्माण अधूरा

इसी प्रकार दूसरे व तीसरे किस्त की राशि का उठाव करने के बावजूद लोगों ने अपने आवास का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं कराया है। ग्रामीण विकास विभाग के आंकड़े बताते हैं कि वर्तमान समय में करीब पांच हजार लोगों का पुराने इंदिरा आवासों का निर्माण कार्य लंबित है।

नए स्वरूप में योजना के आने के बाद अधिकारियों का ध्यान पुरानी योजना के तहत दी गई राशि से लंबी अवधि बीतने के बाद भी आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं कराया गया। सरकार की ओर से पुराने आवासों को पूर्ण कराने के लिए दबाव बनाए जाने के बाद लंबित आवासों का आंकड़ा जस का तस रह गया है।

सीओ को सौंपी गई राशि वसूली के लिए बाद की जिम्मेदारी

जिला ग्रामीण विकास विभाग के सूत्रों ने बताया कि लंबे समय से आवास का निर्माण कार्य पूर्ण नहीं कराने वाले लाभुकों से राशि वसूली की जिम्मेदारी संबंधित सीओ को सौंपी गई है। संबंधित सीओ को इस संबंध में नीलाम पत्र वाद दाखिल करने को कहा गया है।

लाल नोटिस की प्रक्रिया अंतिम चरण में

डिफाल्टर लोगों के विरुद्ध सफेद नोटिस की प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद उन्हें लाल नोटिस निर्गत करने की प्रक्रिया अंतिम दौर में पहुंच गई है। लाल नोटिस के बाद भी आवास निर्माण पूर्ण नहीं कराने वालों के विरुद्ध नीलाम पत्र वाद दाखिल होगा। वैसे ऐसे सैकड़ों लाभुकों की पहचान प्रशासनिक स्तर पर की गई है, जिन्होंने लाल नोटिस के बाद भी आवास का निर्माण पूर्ण नहीं कराया है।

ये भी पढ़ें- 

Supaul News: बाढ़ में लहरों की हिचकोले लेती है कोसी के लोगों की जिंदगी, पलायन करने लगते हैं मजबूर लोग

Bhagalpur News: न पानी की व्यवस्था, न बैठने का इंतजाम; दिन-ब-दिन खस्ता हो रही शहर के चार बस स्टैंड की स्थिती