गोपालगंज। बरौली थाना क्षेत्र के सेमरिया गांव के समीप तीन दिन से लापता एक किसान का शव धमई में उतराते मिला। शव देखकर ग्रामीणों की भीड़ लग गई। ग्रामीणों से सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने किसान के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

बताया जाता है कि बरौली थाना क्षेत्र के रुपनछाप गांव निवासी किसान 50 वर्षीय काशी चौधरी बीते 15 जून को मवेशियों को चराने के लिए गंडक नदी के तटबंध की तरफ गए थे। रुपनछाप गांव के समीप से गंडक नदी से धमई नदी निकली है। शाम को मवेशियों के साथ काशी चौधरी नदी के किनारे बाढ़ के पानी को पार कर रहे थे। इसी दौरान पैर फिसल जाने से नदी में गिर गए। मवेशियों के साथ किसान को नहीं देखकर ग्रामीणों के साथ स्वजनों ने उनकी तलाश की। लेकिन किसान के बारे में कुछ पता नहीं चल सका। स्वजन किसान की खोजबीन कर रहे थे कि इसी बीच शुक्रवार को सेमरिया गांव के समीप धमई नदी की तरफ गए कुछ ग्रामीणों ने किसान काशी चौधरी का शव नदी के पानी में उतराते देखकर इसकी सूचना रुपनछाप गांव के ग्रामीणों को दी। सूचना मिलते ही नदी के किनारे ग्रामीणों की भीड़ लग गई। इसी बीच सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। नदी से किसान का शव निकलवाकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। किसान की मौत से रुपनछाप गांव का माहौल गमगीन हो गया है। स्वजनों के चित्कार से उन्हें ढांढस बांध रहे ग्रामीणों की आंखें भी नम हो गईं।

Edited By: Jagran