गया : पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल के गया जंक्शन अलावे अन्य स्टेशनों पर संरक्षित रेल परिचालन सुनिश्चित रखने हेतु निरंतर कार्यरत है। ट्रैक मेंटेनर जमीनी स्तर पर कार्य करते हुए रेलवे ट्रैक की नियमित निगरानी और मरम्मत कार्य करते हैं तथा संरक्षित रेल परिचालन सुनिश्चित रखने में अग्रणी एवं सराहनीय भूमिका निभाते हैं। मंडल रेल प्रबंधक राजेश कुमार पांडेय के दिशा निर्देशन में पंडित दीन दयाल उपाध्याय मंडल ट्रैक पर कार्य के दौरान ट्रैक मेंटेनरों की व्यक्तिगत सुरक्षा को लेकर सदैव सजग है। ट्रैक पर कार्य के दौरान ट्रैक मेंटेनरों की व्यक्तिगत सुरक्षा को और मजबूती प्रदान करते हुए मंडल के गंजख्वाजा-धनेच्छा रेलखंड पर एडवांस ट्रेन वार्निंग सिस्टम लगाया गया है। इसी प्रकार गया-किऊल रेलखंड, गया-पटना रेलखंड समेत अन्य रेलखंडों पर ट्रैक मेंटेनरों की सुरक्षा के लिए एडवांस ट्रेन वार्निंग सिस्टम लगाने का कार्य शुरू होगी। इस सिस्टम के तहत ट्रैक मेंटेनरों को दी जाने वाली वॉकी टॉकी जैसी ''''''''रक्षक'''''''' हैंड हेल्ड डिवाइस उन्हें ट्रैक पर कार्य के दौरान आ रही ट्रेन व उसकी दिशा के बारे में एलईडी संकेत, बजर (ध्वनि) व वाइब्रेशन के माध्यम से पहले ही अलर्ट कर देगी। इससे ट्रैक मेंटेनेंस या पेट्रोलिग के काम में लगे ट्रैक मेंटेनरों को समय पर उक्त ट्रैक से दूर हटकर सुरक्षित स्थान पर जाने में काफी मदद मिलेगी। ट्रैक मेंटेनरों के सतर्क रहने के साथ-साथ उनकी व्यक्तिगत सुरक्षा हेतु की गई इस अतिरिक्त व्यवस्था से किसी दुर्घटना की संभावना नगण्य रहेगी। रेडियो फ्रिकवेंसी आधारित इस सिस्टम में ट्रैक मेंटेनरों को वॉकी टॉकी जैसे हैंड हेल्ड रिसीवर डिवाइस ''''''''रक्षक'''''''' के माध्यम से ट्रैक पर आने वाली ट्रेन की सूचना प्राप्त होगी। यह एडवांस ट्रेन वार्निंग सिस्टम गंजख्वाजा-चंदौली मझवार, चंदौली मझवार-सैयदराजा, सैयदराजा-कर्मनाशा, कर्मनाशा-धनेच्छा रेलखंडों पर कार्य करेगा। इस व्यस्त रेलखंड पर ट्रेनों का लगातार आवागमन होता रहता है, ''''''''रक्षक'''''''' सिस्टम की मदद से कार्य के दौरान ट्रैक मेंटेनरों में आत्मविश्वास एवं सुरक्षा की भावना और प्रबल होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप