जासं, गया : पांच अप्रैल 2020 को जब अंक कुंडली के आधार पर विवेचन करते हैं तो पाते हैं कि उस दिन चंद्रमा का अत्यधिक प्रभाव है। राहु एवं बुध का प्रभाव भी लिए हुए है। चंद्रमा मन का कारक ग्रह है। चंद्रमा मनसो जात:। अत: चंद्रमा मन है। मन की विभिन्न प्रकार की आशाओं, आकाक्षाओं एवं संवेदनाओं का प्रतीक है। चंद्रमा कफ एवं वायु का कारक है। छाती एवं सांस से संबंधित बीमारियों पर इसका अधिकार है। वहीं, अंक 5 तथा मनुष्य के कंठ पर बुध का अधिकार है, जबकि अंक 4 पर राहु जैसे ग्रहों का आधिपत्य है। पांच अप्रैल 2020 को चंद्रमा का अत्यधिक प्रभाव होने के साथ-साथ बुध और राहु जैसे ग्रहों का भी प्रभाव है। राहु आकस्मिक घटनाओं एवं दुर्घटनाओं को देने के साथ ही मानसिक अवसाद तथा जीवाणु एवं विषाणु को भी बढ़ाने में मददगार होता है।

अत: इन स्थितियों के दुष्प्रभाव से बचने के लिए रात्रिकाल 9 बजे से 9 मिनट तक दीपक जलाना स्फूर्ति एवं उत्साह में वृद्धि करने जैसा होगा। चूंकि 9 अंक मंगल का अंक है, जो शक्ति, साहस, पराक्रम एवं धैर्य में वृद्धि करता है। चंद्रमा चलित ग्रह में सिंह राशि पर स्थित है जिसका स्वामी सूर्य है अत: मंगल एवं सूर्य जीवन में आने वाली कठिनाइयों को परास्त कर जीवन की एक नई दिशा एवं शक्ति का संचार करने में मददगार होगा। अत: दीपक जलाने से स्फूर्ति और उत्साह की वृद्धि होगी, साथ ही वर्तमान समय मे आई हुई महामारियों से संघर्ष कर उसे परास्त करने की क्षमता एवं मनोबल में भी वृद्धि होगी।

-प्रमोद कुमार सिन्हा, गर्वनर एस्ट्रोलॉजिकल प्वाइंट, गया प्रक्षेत्र

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस