गया । शहर के दंडीबाग मोहल्ला स्थित मेन पाइपलाइन की मरम्मत के बाद भी आपूर्ति नहीं हो पाने के कारण लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है। पाइपलाइन पर बने मकानों को तोड़े बिना इसे ठीक करना अब मुश्किल हो गया है।

नगर निगम द्वारा पाइपलाइन में दो दिनों तक वेल्डिंग के बाद भी परिणाम निराशाजनक रहा। गुरुवार की शाम जब जलापूर्ति केंद्र से पानी छोड़ा गया तो मरम्मत वाले स्थान पर पाइप फटने से पानी की तेज धारा बहने लगी। जलापूर्ति केंद्र में कार्यरत कर्मचारी ने कहा कि पाइपलाइन की मरम्मत के बाद पहले 50 एचपी के मोटर पंपसेट से पानी छोड़ा गया। तब तक ठीक था, लेकिन जैसे ही 100 एचपी के मोटर पंपसेट से पानी छोड़ा गया, पाइप फट गया। जंक लगने से पाइप बेकार हो गया है। अगर जंक नहीं होता तो पानी की आपूर्ति हो जाती। नगर निगम के कार्यपालक अभियंता राकेश कुमार ने बताया कि मरम्मत के बाद भी सफलता नहीं मिली। किसी भी हाल में 16 फीट पाइप को बदलना ही पड़ेगा। तभी मंगलागौरी टंकी में पानी की आपूर्ति की जा सकती है। पाइप बदलने के लिए मकानों को तोड़ना ही पड़ेगा। मकानों को तोड़े बिना यह काम संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि 26 दिन से पाइपलाइन फटा हुआ है। इस कारण शहर में आठ लाख गैलन पानी की आपूर्ति बंद है, जिससे लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। वार्ड 24 में पांच हजार से अधिक आबादी को टैंकर से पानी की आपूर्ति की जा रही है।

----------------------

मकान मालिकों को नोटिस

नगर निगम ने पाइपलाइन पर बने 11 मकानों को चिह्नित कर रखा है। मकानों को तोड़ने के लिए नोटिस भी किया गया है। नगर आयुक्त ने मकानों को तोड़ने का जिम्मा सिटी मैनेजर विष्णु प्रभाकर लाल को सौंप रखा है। सिटी मैनेजर ने कहा कि सभी मकान मालिकों को नोटिस दिया गया है। शुक्रवार को जवाब का इंतजार किया जाएगा। उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

---------------------

अभी हम दिल्ली में हैं। लौटने के बाद पाइपलाइन पर बने मकानों को तोड़ने की कार्रवाई की जाएगी। जिस वार्ड में पानी की आपूर्ति बंद है, वहां फिलहाल टैंकर की संख्या बढ़ाई जाएगी।

ईश्वरचंद शर्मा, नगर आयुक्त

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप