औरंगाबाद, जागरण संवाददाता। नगर थाना क्षेत्र के पुरानी जीटी रोड पर सांसद आवास के समीप शनिवार को ग्रामीणों ने दारोगा शिशुपाल, पुलिसकर्मी मंजय कुमार एवं चालक मो. मोतजा की जमकर धुनाई कर दी। दारोगा को हाथ में चोट लगी है। ग्रामीणों ने पुलिस के हत्थे चढ़े अपने तीन साथियों को जबरदस्ती छुड़ा लिया। इस दौरान अफरातफरी मची रही। घटना की सूचना पर एसडीपीओ गौतम शरण ओमी पहुंचे और मामले की जांच की।

बताया गया कि औरंगाबाद प्रखंड की बेला पंचायत में शुक्रवार को हुए मतदान के बाद से मारपीट हो रही है। शुक्रवार शाम परसा गांव के रंजू कुमार, बिट्टू कुमार एवं इंद्रजीत सिंह की पिटाई कर दी गई। तीनों का इलाज सदर अस्पताल में किया गया। घायलों की स्थिति गंभीर बताई जाती है। प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक ने तीनों को बेहतर इलाज के लिए रेफर कर दिया।

पिटाई से घायल गुट के ग्रामीणों ने शनिवार को बेला पंचायत से मुखिया प्रत्याशी कमलेश तिवारी उर्फ मछलिया बाबा का पीछा किया। वे भागते हुए सांसद के आवास में घुस गए। यहां से नगर थाना पुलिस को फोन किया कि परसा गांव के ग्रामीण मेरी हत्या करना चाहते हैं। सूचना पर दारोगा शिशुपाल पुलिसकर्मियों के साथ पहुंचे। सांसद आवास से कमलेश तिवारी को बाहर निकालकर घर भेजना चाहा तभी स्कार्पियो पर सवार परसा गांव के ग्रामीणों ने उन्हें घेर लिया। मारपीट करने लगे तभी दारोगा एवं पुलिसकर्मियों ने छुड़ाना चाहा। परसा गांव के ग्रामीणों ने दारोगा एवं पुलिसकर्मियों की पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई के बाद हंगामा हो गया। दोनों गुट के ग्रामीण इधर-उधर भागने लगे। पुलिसकर्मियों ने परसा गांव के तीन ग्रामीणों को पकड़ लिया तो 20-25 की संख्या में रहे परसा गांव के ग्रामीणों ने हमला बोल अपने साथियों को छुड़ा लिया। दारोगा शिशुपाल ने बताया कि मारपीट करने वाले भाग निकले। परंतु उनकी बाइक बीआर 26एफ-0239 जब्त कर ली गई है। बताया जाता है कि पंचायत चुनाव मतदान के बाद से बेला पंचायत में तनाव व्याप्त है।

 

सदर एसडीपीओ गौतम शरण ओमी ने कहा कि परसा गांव के ग्रामीणों ने पुलिस पर हमला किया है। मामले की जांच हो रही है। दोषियों की गिरफ्तारी को पुलिस छापेमारी कर रही है।

 

Edited By: Sumita Jaiswal