गया, जागरण संवाददाता। रामनवमी पर्व पर मंदिरों से लेकर घरों में तैयारी चल रही है। कोरोना वायरस को लेकर ऐसे तो मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद है। लेकिन गया शहर स्थित कई मंदिरों में पुजारी विशेष पूजा अर्चना करेंगे। हालांकि उसमें श्रद्धालुओं का प्रवेश वर्जित है। शहर के प्रसिद्ध गोल पत्थर हनुमान मंदिर, बाईपास पर स्थित हनुमान मंदिर एवं विष्णुपद मंदिर परिसर में स्थित हनुमान मंदिर में विशेष तैयारियां चल रही है। जहां मंदिर को रंगीन बल्बों से सजाया गया। आचार्य लाल भूषण मिश्र ने कहा कि इस बार रामनवमी का अलग महत्व है। इस तरह का संजोग नौ वर्षों में बना है। बुधवार को कर्क लग्न 11:02बजे से 1.20 बजे तक है। युक्ति तिथि मे ही भगवान श्री राम का जन्मोत्सव मनाया जाएगा।

दोपहर में मनेगा भगवान श्री राम के जन्मोत्सव

राम नवमी के अवसर पर दोपहर में शहर की स्थिति मंदिरों में भगवान श्री राम का जन्मोत्सव मनाई जाएगी। जन्मोत्सव कार्यक्रम में सिर्फ मंदिर के पुजारी ही रहेंगे। आम श्रद्धालुओं को जन्मोत्सव कार्यक्रम में भाग लेने की अनुमति नहीं है। क्योंकि कोरोना वायरस को लेकर आम श्रद्धालुओं के लिए कर मंदिर बंद है।

 

शहर में नहीं निकलेगा रामनवमी का जुलूस

राम नवमी के अवसर पर शहर में जुलूस निकलता था। शहर में कई धार्मिक संगठन के द्वारा जुलूस का आयोजन किया जाता था। लेकिन 2 वर्षों से कोरोना ने जुलूस पर ग्रहण लगा दिया है। जिसके कारण शहर में पिछले वर्ष भी रामनवमी पर जुलूस नहीं निकला था। और इस वर्ष भी किसी तरह का आयोजन पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है। प्रतिबंध के कारण इस वर्ष भी रामनवमी का जुलूस शहर में नहीं निकलेगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप