सासाराम : रोहतास। वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग तितलियों को बचाने के लिए राज्य का पहला बटर फ्लाई पार्क का निर्माण रोहतास जिले के तिलौथू प्रखंड में कैमूर पहाड़ी पर स्थित तुतला भवानी के पास करने जा रहा है। यह पार्क विलुप्त हो रही चार दर्जन से अधिक प्रजाति की तितलियों को बचाने में कारगर साबित होगा। पर्यावरणीय खतरों से समाप्ति के कगार पर पहुंच रही तितलियों को इस पार्क के बन जाने से नई जिंदगी मिलेगी। पर्यावरण संरक्षण के अलावा पर्यटन के साथ रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

राज्य का प्रथम बटरफ्लाई पार्क तुतला भवानी धाम में 

जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई ऐसी प्राकृतिक जगह है, जो पर्यटकों का मन मोह लेती हैं। ऐसे पर्यटक स्थलों को सरकार विकसित करने का काम कर रही है। इसी पर्यटक स्थलों में से एक है तुतला भवानी धाम। इस धार्मिक स्थल को बिहार सरकार इको पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर रही है। इसी स्थल पर राज्य का प्रथम बटरफ्लाई पार्क बनाया जाएगा, जो चार दर्जन से अधिक प्रजाति की तितलियों को बचाने में कारगर साबित होगा। यह राज्य का पहला बटर फ्लाई पार्क होगा। इस कार्य को करने की जिम्मेदारी वन व पर्यावरण जलवायु विभाग को दी गई है।

इस तरह से विकसित होगा पार्क :

तितलियां इको सिस्टम की महत्वपूर्ण कड़ी है। तितली रहेगी तो मेढ़क और सांप भी आएंगे। कई प्रकार के कीड़े-मकोड़े भी इस शृंखला से जुड़े हैं। यहां ऐसे पौधे व घास लगाए जाएंगे, जिनमें तितलियां अपने अंडे देती है। पार्क में नींबू, धान, बरगद, पाम, रेटल पॉट, फूल घास, बेल लगाए जाएंगे। पर्याप्त भोजन होने व वास स्थल की वजह से तितली इसी पार्क में मंडराती दिखेंगी। तितली अलग-अलग पौधों पर अंडा देती हैं। अंडे से लार्वा, लार्वा से प्यूपा व प्यूपा से तितली बनती है। इससे तुतला भवनी आने वाले पर्यटकों को तितली के बारे में जानने का मौका भी मिलेगा।

कहते हैं अधिकारी:

तुतला भवानी धाम के पास वन विभाग की भूमि पर बटर फ्लाई पार्क बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बटरफ्लाई पार्क से पर्यटन को और बढ़ावा मिलेगा और क्षेत्र के इको सिस्टम में भी सुधार होगा। यह राज्य का पहला बटर फ्लाई पार्क होगा। इस पार्क से कई विलुप्त हो रहे जीवों को भी नई जिंदगी मिलेगी। तथा बच्चे व आमजन प्रकृति के संरक्षण में जीवों के महत्व को भी समझेंगे। 

प्रद्युम्न गौरव, डीएफओ- रोहतास

Edited By: Prashant Kumar Pandey