गया। टिकारी थाना क्षेत्र अंतर्गत झिलमिल गांव में नवविवाहिता दहेजलोभियों की भेंट चढ़ गई। तीन माह की गर्भवती की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। उसके मायके वालों ने गला दबाकर हत्या का आरोप लगाया है। कहना है कि दहेज के लिए हत्या की गई है। ससुराल वाले घर से फरार है।

शहर के दुर्गास्थान मोहल्ला निवासी स्व. बीरेंद्र चौधरी की इकलौती पुत्री प्रतिमा कुमारी की शादी झिलमिल गांव के निवासी गंगा चौधरी के पुत्र रमेश चौधरी से इसी वर्ष मार्च में हुई थी। मंगलवार की देर रात विवाहिता के ससुराल वाले गांव के किसी ने मायके वालों को प्रतिमा की मौत की सूचना दी। प्रतिमा की मां अपने स्वजन और पड़ोसियों के साथ झिलमिल स्थित उसके ससुराल घर पहुंचीं तो देखा कि शव पड़ा था और घर वाले मौके पर नहीं थे। प्रतिमा के गले में निशान के आधार पर स्वजन ने गला दबाकर हत्या की आशंका जताई है। प्रतिमा की मां प्रभा देवी ने ससुराल वालों पर दहेज के लिए पुत्री की हत्या करने का आरोप लगाया है।

मां प्रभा देवी ने पुलिस से शिकायत की है कि दहेज के रूप में ससुराल वालों के द्वारा बुलेट बाइक की मांग की जा रही थी। शादी में चार लाख रुपये दिये थे। दामाद रमेश तीन दिन पहले ही मजदूरी करने दिल्ली गया था। दामाद के नहीं रहने के कारण प्रतिमा की सास, ससुर, दो गोतनी एवं भैसुर ने मिलकर हत्या कर दिया। उन्होंने बताया कि बेटी के गर्भ में तीन माह का बच्चा भी पल रहा था। मंगलवार की रात 9 बजे बेटी से अंतिम बार बात हुई थी। दो माह पूर्व पिता की हुई थी मौत

प्रतिमा के पिता बीरेंद्र चौधरी की मौत दो माह पूर्व हुई थी। स्वजन मौत के दुख से उबरे भी नहीं थे कि इकलौती पुत्री की मौत ने सबको झकझोर दिया। प्रतिमा का 10 वर्षीय इकलौता भाई इन घटनाओं से पूरी तरह सदमे में है। प्रतिमा की शादी के दिन नौ फरवरी को बरात आते समय भैसुर राकेश चौधरी एवं एक अन्य की मौत सड़क हादसे में हो गई थी। मौत के बाद शादी को टाल दिया गया था। 20 मार्च को शादी हुई थी। थानाध्यक्ष श्रीराम चौधरी ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम के बाद स्वजन को सौंप दिया गया है। अभी आवेदन नहीं मिला है।

Edited By: Jagran