टिकारी (गया), संवाद सहयोगी। गया जिला के टिकारी थाना क्षेत्र के शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों मनचले के करतूत से आम नागरिक परेशान हैं। लोगों के साथ मारपीट, अभद्र आचरण, राह चलते स्कूली छात्राओं पर फब्तियां आम बात हो गई है। कुछ दिन पहले राज स्कूल के मैदान में खेल रहे एक 12 वर्षीय बालक को मनचले युवकों की टोली ने मारपीट कर जख्मी कर दिया। हद तो यह कि बालक का हाथ पहले से ही टूटा हुआ था, मगर बदमाशों को उसे पीटने में जरा भी दया नहीं आई। उसे इतना पीटा कि वह बेहोश हो गया। घटना के संबंध में थाना में लिखित शिकायत के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई  नही होने से जख्मी बालक के स्वजन चिंतित व दुखी हैं। घटना को लेकर थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज कराने के 13 दिन बाद भी आरोपित बेखौफ घूम रहा है।

घायल बालक देवधरपुर मुहल्ले के रहने वाले सुनील प्रसाद का पुत्र शिवम कुमार है। शिवम बिना कारण पीटने का कारण पूछता रहा और हमलावर पीटते रहे। लगातार पड़ी मार के बाद शिवम बेसुध होकर गिर गया। जिसके बाद हमलावर भाग खड़ा हुआ। शिवम लगभग 20 दिन पूर्व खेलने के क्रम में गिर गया था जिसमें उसका एक हाथ टूट गया था। हाथ टूटने के कारण शिवम के हाथ पर प्लास्टर लगा है। शिवम अपने हाथ टूटे होने की बात भी कहता रहा लेकिन बदमाशों ने मारपीट कर जख्मी कर दिया।  नवपदस्थापित थानाध्यक्ष श्रीराम चौधरी ने बताया कि मामला अब तक संज्ञान में नही है। योगदान 5 सितंबर के बाद हुई है। मामले की जानकारी लेकर हरसंभव कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस ने अचेत महिला को पहुंचाया अस्पताल

गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र के ओवर ब्रिज के समीप से शनिवार को गश्त कर रही पुलिस ने अचेत अवस्था में एक महिला को अनुमंडल अस्पताल पहुंचाया। अनुमंडल अस्पताल में इलाज के बाद महिला होश में आने पर बताया कि वह अपने दोस्त से मिलने शेरघाटी आई थी। घर वापस लौटने के लिए जीटी रोड पर किनारे में खड़ी थी। अचानक कैसे बेहोश हो गई। यह पता नहीं चला। अस्पताल में होश आने के बाद पूछताछ किया गया तो पता चला की हम अस्पताल में पड़े हैं। अस्पताल चिकित्सक डा. राजेश सिंह ने बताया कि महिला औरंगाबाद की थी। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

 

Edited By: Sumita Jaiswal