जागरण संवाददाता, गया : गिरिधारी फोर्ड के मालिक अनुराग पोद्दार के घर भीषण डकैती को समस्तीपुर के

अंकेश व सिवान के विक्रम गिरोह के कुल आठ सदस्यो ने अंजाम दिया था। इसमें गोपालगंज निवासी सुनील का भी नाम सामने आया है। गिरोह के सदस्यों ने छह व्यवसायियों के घर की रेकी कर डकैती की थी। उसमें एक गिरिधारी फोर्ड के मालिक का घर भी शामिल है। डकैती में झारखंड के दो अपराधी भी शामिल थे। गिरोह के सदस्यों ने सिर्फ गया ही नहीं, नालंदा, पटना, वैशाली, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज में भी वारदातों को अंजाम दिया था।

यह खुलासा रविवार को वरीय पुलिस अधीक्षक राजीव मिश्रा रामपुर थाने में संवाददाता सम्मेलन के दौरान किया। उन्होंने कहा कि लूटे गए सामान की बरामदगी तो नहीं हुई है, लेकिन गिरोह से जुड़े सदस्यों की पहचान कर ली गई है। तीन सदस्य पुलिस गिरफ्त में हैं, जो फिलहाल सूबे के गया समेत अलग-अलग जेल में बंद हैं। उन्होंने बताया कि रिमांड पर लिए गए शातिर आरोपित अंकेश ने पुलिस के समक्ष कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे।

-------------

पूछताछ में कुबूला जुर्म

एसएसपी ने बताया कि अनुसंधान के दौरान अप्राथमिकी अभियुक्त अंकेश कुमार पिता भूषण कुमार उर्फ जवाहर रजक गांव सिमरी, थाना विद्यापति नगर समस्तीपुर व गिरोह के अन्य 13 सदस्यों को वैशाली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। अंकेश, सौरभ कुमार बाढ़ जिला पटना, सुबोध कुमार गांव सिमरी थाना विद्यापति नगर समस्तीपुर ने स्वीकारा कि विक्रम उर्फ योगेंद्र महतो खैरवा थाना भगवानपुर जिला सिवान एवं सुनील सिंह गांव नेचुआ जलालपुर थाना केचायकोट जिला गोपालगंज ने गया में वारदात से पहले रेकी की थी। इन्हीं के ही नेतृत्व में विक्रम के स्कॉर्पियो से गया आकर लूटपाट की गई थी।

-----------

गिरोह के छह सदस्य व

स्कॉर्पियो की पहचान

एसएसपी ने बताया कि गिरोह के सदस्य अंतरराज्यीय व अंतर जिला में वारदात को अंजाम दिया था। डकैती में शामिल आठ लोगों में से छह लोग व स्कॉर्पियो की पहचान हो गई है। रेकी करते समय गिरोह के सदस्य पता लगाते हैं कि घर में कितने सदस्य रहते हैं, कितने का माल यहां से मिल सकता है। सुरक्षा की क्या व्यवस्था है? पूछताछ में गिरोह के सदस्या ने बताया कि यहां से जो जेवरात चोरी हुई है, विक्रम में पास है। बरामदगी के लिए पुलिस प्रयास कर रही है।

-----------

डेढ़ साल में डेढ़ दर्जन

वारदात, लूटे 13 करोड़

एसएसपी ने बताया कि पूर्व में अंकेश कई बार डकैती व चोरी मामले में जेल जा चुका है। गत वर्ष तीन माह के लिए जेल गया था। वहां से छूटने के बाद 10 से 12 वारदातों को अंजाम दिया है। इनमें चार गिरोह के सदस्यो ने 13 करोड़ रुपये लूटे। गिरोह के सदस्यों ने नालंदा, पटना, वैशाली, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और गया में वारदातों को अंजाम दिया था। विक्रम (सिवान) , सौरभ (पटना), सुबोध (समस्तीपुर), सुनील (गोपालगंज) का रहने वाला है। छह में से दो अलग-अलग जिले में बंद है। जिसे रिमांड पर लेने की पुलिस तैयारी कर रही है। गोपालगंज में जो डकैती हुई थी। उस समय पैसे के बंटवारे को लेकर गिरोह विभेद हुआ था।

-----

शादी समारोह में अंकेश की

सरगना से हुई मुलाकात

समस्तीपुर में शादी समारोह में स्नातक पास 25 वर्षीय अंकेश की मुलाकात गिरोह के सरगना से हुई थी। कम समय में बिना मेहनत धन इकट्ठा करने की मनसा से वह गिरोह में शामिल हुआ।

----------

23 जुलाई को हुई थी डकैती

रामपुर थाना क्षेत्र के गिरिधारी फोर्ड के मालिक अनुराग के घर में बीते 23 जुलाई 18 को गार्ड को बंधक बनाकर घर के तिजोरी का ताला तोड़कर लूटपाट की गई थी। यहां से करीब 65 लाख रुपये की डकैती होने की प्राथमिकी रामपुर थाने में दर्ज की गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस