जागरण संवाददाता, बोधगया। अंतरराष्ट्रीय पर्यटक स्थल बोधगया में आज से बिहार का सबसे बड़ा निशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर का शुभारंभ हो रहा है। इसके लिए शुक्रवार से पूर्व से पंजीकृत किए गए मरीजों का पंजीयन और जांच कार्य शुरू हो गया है। आज जिन मरीजों का पंजीयन और जांच पूर्व में हुआ था उनका शनिवार से ऑपरेशन किया जाएगा। यह सिलसिला आगामी 20 अक्टूबर तक चलेगा। उसके बाद 28 अक्टूबर से 16 नवंबर तक पंजीकृत किए गए मरीजों का ऑपरेशन किया जाएगा। शिविर में ऑपरेशन का कार्य गुजरात से आए नेत्र सर्जनों के द्वारा किया जाता है।

मार्च माह में फिर से मिनी कैंप 

शिविर के कार्यकर्ता एसके निराला ने बताया कि राज्य सरकार से 20 हजार मरीजों के ऑपरेशन का आदेश प्राप्त है लेकिन मगध प्रमंडल के सात जिलों में जांच टीम द्वारा लगभग 28 हजार मरीजों का पंजीयन किया गया है।अगर जरूरत पड़ी तो मार्च माह में फिर से मिनी कैंप लगाकर सभी का ऑपरेशन किया जाएगा। यह 39 वां बी कैंप है। उन्होंने बताया कि 1987 अप्रैल 2022 तक गुजरात के सुप्रसिद्ध नेत्र विशेषज्ञों द्वारा आधुनिक पद्धति से लगभग 8, 36, 837 मरीजों का सफल ऑपरेशन किया गया है। इसमें लगभग एक हजार से अधिक जन्मांध बच्चे भी शामिल हैं। 

कोरोना से पहले विदेशी वॉलिंटियर भी देते थे सेवा

इस शिविर में कोरोना काल से पहले विदेशी वॉलिंटियर भी सेवा देते थे।जो समन्वय आश्रम में आया करते थे। भंसाली ट्रस्ट ने बोधगया में स्थाई रूप से रोगियों के ऑपरेशन के लिए एक अस्पताल बनाया है, जिसे नेत्र ज्योति अस्पताल के नाम से जाना जाता है। यह पूरा वातानुकूलित है और साल भर यहां मोतियाबिंद के मरीजो का ऑपरेशन चिकित्सकों द्वारा किया जाता है।

Edited By: Prashant Kumar pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट