संवाद सूत्र, पकरीबरावां (नवादा)। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में प्रत्याशियों ने इंटरनेट मीडिया को प्रचार का माध्यम बनाया है। प्रत्याशी ही नहीं बल्कि उनके समर्थक भी वाट्सएप और फेसबुक पर चुनाव प्रचार कर रहे हैं। पंचायत चुनावों में पहली बार इंटरनेट मीडिया पर प्रत्याशी सक्रिय हैं। ग्राम पंचायतों में इंटरनेट मीडिया के माध्यम से मतदाताओं को रिझाया जा रहा है। पर्व-त्योहार के मौके पर खास शुभकामना एवं बधाई संदेश देने का सिलसिला शुरू हो गया है। संभावित प्रत्याशी अपनी-अपनी उम्मीदवारी जताते हुए इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अपना प्रचार सामग्री बनाकर अपने को कर्मठ और सुयोग्य उम्मीदवार बता रहे हैं।

वहीं दूसरी ओर गांव में जनप्रतिनिधियों द्वारा किए गए विकास कार्यो को इंटरनेट मीडिया पर कोई बढ़ा चढ़ाकार बता रहा तो कोई इसे फिसड्डी बता रहा है। पंचायत में पूर्व के प्रतिनिधियों द्वारा किए गए कार्यो पर भी प्रतिक्रिया का दौर शुरू हो गया है। उम्मीदवारों के समर्थकों द्वारा योजनाओं में अनियमितता एवं अन्य आरोप प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं। वीडियो और फोटो वायरल कर योजनाओं पर प्रतिक्रिया का दौर जारी है।

वार्ड सदस्य चुनाव को भी राजनीति

प्रखंड के पंचायतों में उम्मीदवारी को लेकर कई संभावित प्रत्याशियों द्वारा बैनर पोस्टर भी लगाए जाने का काम स्वतंत्रता दिवस से ही शुरू हो गया था। यही नहीं इस बार प्रत्येक पंचायत में वार्ड सदस्य के चुनाव को लेकर भी सरगर्मी उफान पर है। वार्ड सदस्य पद के लिए पूर्व में अधिकांश सदस्यों का चुनाव निर्विरोध हो जाता था। परंतु वर्तमान कार्यकाल में बिहार सरकार के द्वारा वार्ड सदस्यों को दिए गए अधिकार के बाद स्थिति बदल गई है। परिणाम स्वरूप वार्ड सदस्य के लिए इस बार पंचायत का ²श्य रोचक और आकर्षक होगा। हर गली कूचे में वार्ड सदस्य के चर्चे हो रहे हैं। इंटरनेट मीडिया के जरिए प्रचार किया जा रहा है।

इस बार अलग होगा पंचायत में चुनाव

पूर्व के पंचायत चुनाव से इस बार का चुनाव भिन्न होगा। कई पदों के लिए पहली बार ईवीएम का उपयोग किए जाने के प्रति भी गांव में चर्चा तेज हो गई है। इंटरनेट मीडिया पर डिजिटल चुनाव प्रचार के कारण निर्वाचन आयोग द्वारा दिए गए निर्देश का शत-प्रतिशत पालन कराने की चुनाव अधिकारियों पर बड़ी जिम्मेवारी होगी। चाहे जो भी हो पंचायत चुनाव को लेकर गांव और टोला में सरगर्मी तेज हो गई है, चुनाव प्रचार के रोचक तरीके सामने आ रहे हैं।

बुजुर्ग दावेदार युवाओं से सीख पोस्ट करा रहे हैं प्रचार

इंटरनेट मीडिया पर प्रचार प्रसार करने के मामले में बुजुर्ग प्रत्याशी युवाओं से कम नहीं है। गांव के कम पढ़े लिखे बुजुर्ग दावेदार भी बच्चों से जानकारी लेकर खुद का प्रचार प्रसार वाट्सएप व फेसबुक के माध्यम से कर ले रहे हैं। जो अपने जमाने में आधुनिकता को इतना बढ़ते ना देखे थे वह आज एंड्रॉयड फोन से युवाओं के माध्यम से सीखकर अपनी दावेदारी को सशक्त बनाने में लगे हैं।

Edited By: Prashant Kumar