जागरण संवाददाता, गया। गया में लगातार मतांतरण का मामला सामने आ रहा है। कहते है कि प्यार अंधा होता है. ना तो जाति देखता है और ना धर्म। कुछ इसी तरह वाक्या गया में देखने को मिला। यहां अपने प्यार को पाने के लिए एक युवक ने अपना धर्म बदल दिया।

औरंगाबाद जिले के रफीगंज के रहने वाले मो. मिस्बाह अब प्रिंस बन गया। हिन्दू धर्म से लगाव होने की बात कह रहा है। औरंगाबाद के मोहम्मद मिस्बाह ने धर्म और प्यार में से प्यार को चुना। प्रिंस कुमार बन गया. मतांतरण क्यों किया, जब इसके कारणों की तलाश की गई तो पता चला कि यह मामला प्रेम प्रसंग से जुड़ा हुआ है।

पहले फरार हुआ था प्रेमी जोड़ा

युवक रामपुर थाना क्षेत्र के किसी हिन्दू लड़की से प्यार करता है, और वह लड़की को लेकर कुछ महीने पहले फरार हुआ था। बाद में दोनों को पुलिस ने बरामद की थी। युवक पर पास्को के तहत रामपुर थाना में लड़की के पिता ने मामला दर्ज कराया था। लड़की ने 164 के बयान पर खुद से लड़का का बचाव करते हुए अपनी मर्जी से साथ जाने की बात कही थी। जिससे लड़के को जेल नहीं हुआ।

अब लड़की भी 18 साल की हो गई है लेकिन दोनों के अलग-अलग धर्म के होने के कारण शादी में काफी परेशानी हो रही थी। इसके कारण ही युवक ने मो. मिस्बाह से प्रिंस कुमार बनने के लिए मंगलवार को एसडीओ कोर्ट में अर्जी लगाई। जहां सारी कागजी कार्रवाई के बाद अपना धर्म बदल दिया है। हालांकि इस मामले में वकील भी कुछ भी बोलने से परहेज करते रहे हैं।

अपनी मर्जी से किया मतांतरण

मतांतरण कर मिस्बाह से  प्रिंस  कुमार बने युवक ने बताया कि मुझे हिन्दू धर्म से शुरु से ही लगाव रहा था। मैं खुद की अपनी मर्जी से हिन्दू धर्म अपना रहा हूं। मेरे ऊपर किसी का दबाव नहीं है। मैं अपने स्वजनों को इस बारे में बता चुका हूं। उन्हें भी कोई दिक्कत नही है। मैं मो. मिस्बाह से  प्रिंस  कुमार बन चुका हूं। प्यार के लिए अपना धर्म बदलने वाले  प्रिंस को उम्मीद है कि लड़की के स्वजन दोनों की शादी के लिए मान जाएंगे।

शादी हो जाए तो प्यार की भी जीत हो जाएगी और कानूनी कार्रवाई से भी बच जाएंगे। जानकारी हो कि ङ्क्षप्रस गया  एक स्टूडियो चलाता है,। अभी दोनों की शादी नहीं हुई है। अब शादी के बाद दोनों साथ-साथ रास्ता पर चलने का निर्णय लिया गया है. फिलहाल दोनों की शादी नहीं हुई है.

Edited By: Prashant Kumar