जागरण संवाददाता, औरंगाबाद। जिला मुख्यालय स्थित सच्चिदानंद सिन्हा महाविद्यालय में गणतंत्र दिवस पर कॉलेज के सेवानिवृत्‍त शिक्षकों व कर्मचारियेां को सम्‍मानित किया गया। कॉलेज के विकास पर चर्चा की गई। प्राचार्य डाॅ. वेदप्रकाश चतुर्वेदी ने कहा कि सुनियोजित तरीके से कॉलेज का विकास किया जा रहा है। इससे पूर्व उन्‍होंने झंडोत्‍तोलन किया।

अतीत के सितारों ने पहुंचाया इस मुकाम पर

सेवानिवृत प्रोफेसर एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को सम्मानित करते हुए  प्राचार्य ने कहा कि ये हमारे कॉलेज के अतीत के सितारे हैं। इन्होंने इस कॉलेज को इतने बेहतर तरीके से संजो कर रखा है जिसमें आज हजारों बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। साथ ही बेहतर करने वाले शिक्षक एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को प्राचार्य ने पुरस्कृत किया। प्राचार्य ने सभी कर्मियों को बेहतर तरीके से कार्य करने की अपील की। कहा कि प्लान के तहत काॅलेज का विकास किया जा रहा है। महाविद्यालय में लगातार विकास का कार्य किया जा रहा है। भवन का निर्माण हो रहा है। नए परीक्षा भवन का निर्माण हुआ है। कई अन्‍य कार्य हो रहे हैं।

झंडोत्‍तोलन के पहले निकाली गई प्रभात फेरी

इससे पूर्व आरंभ में झंडोत्तोलन के पहले प्राचार्य के नेतृत्व में एनसीसी एवं एनएसएस के कैडेटों ने प्रभात फेरी निकाली। झंडोत्‍तोलन के बाद अपने संबोधन में प्राचार्य ने कहा कि आज का दिन हमारे लिए गौरव का दिन है। उन्‍होंने कहा कि कोरोना गाइडलाइन के कारण वृहद तरीके से समारोह नहीं मना पा रहे हैं। बावजूद उत्‍साह में कोई कमी नहीं है।मौके पर उपप्राचार्य डा. कासिम फरीदी, प्रो. डा. कमलेश कुमार सिंह, सेवानिवृत प्रो. डा. सीएस पांडेय, डा. रामाधार सिंह, एनसीसी प्रभारी ओमप्रकाश सिंह, प्राधान सहायक शक्ति कुमार सिंह, अकाउंटेंट मनोज कुमार सिंह, सहायक शिक्षिका नीतू सिंह, कुमारी सोना रानी, नेहा कुमारी, डॉली कुमारी, शिक्षक अनिल कुमार सिंह, अनिल कुमार, बहादूर भीम सिंह, सुमित कुमार सिंह समेत महाविद्यालय के सभी शिक्षक एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारी उपस्थित रहे।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप