मोतिहारी । बिहार राज्य मत्स्यजीवी संघर्ष मोर्चा ने बुधवार को शहर के चरखा चौक पर अपनी मांगों के समर्थन में नाव व जाल के साथ प्रदर्शन किया। इस दौरान सरकारी की नीति के विरुद्ध नारेबाजी भी हुई। इसके बाद मोर्चा का एक शिष्टमंडल अपनी आठ सूत्री मांगों से संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी प्रियरंजन राजू को मांग पत्र सौंपा। शिष्टमंडल में मोर्चा के जिला संयोजक मनोज मुखिया, राकेश रौशन उर्फ पप्पू सहनी, अनिल महतो, राजेश्वर सहनी, सुदामा सहनी, शिवशंकर निषाद, कृष्णा सहनी, अजय कुमार चौधरी, भोला सहनी, विनय सहनी, रमायण सहनी, दीनानाथ मुखिया, कामेश्वर सहनी, महेंद्र सहनी, सुरेंद्र सहनी आदि शामिल रहे। जिला संयोजक मनोज मुखिया ने कहा कि सूबे में मत्स्यजीवी सहयोग समिति के राजस्व में दोगुना वृद्धि हो गई है। इस कारण मछुआरा समाज के समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है। उन्होंने बताया कि जल जीवन हरियाली के तहत तालाबों का जीर्णोद्धार प्रखंडस्तरीय मत्स्यजीवी सहयोग समिति से कराया जाय, 2019 में पूरे बिहार में सुरक्षित जमा निर्धारण कहीं 90 तो कहीं 100 प्रतिशत कर दी गई है उसे वापस लिया जाए। साथ ही सुरक्षित जमा राशि 100 रुपये प्रति एकड़ मालगुजारी राशि के तहत प्रखंडस्तरीय मत्स्यजीवी सहयोग समिति के साथ बंदोबस्त करने, तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराने, सरकारी तालाबों पर फीड व सीड में 90 प्रतिशत अनुदान देने, सभी सरकारी तालाबों पर मत्स्यपालकों के आवेदन पर विद्युत कनेक्शन देने, सरकारी तालाब पर केसीसी व तालाब की बीमा करने आदि की भी मांग उठाई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस