मोतिहारी । आज बेटियां बेटों से किसी मामले में कम नहीं है। हर क्षेत्र में बेटियों ने जिले के साथ देश का नाम रोशन करने का काम किया है। ग्रामीण क्षेत्र के बेटियों को भी आधुनिक तकनीक की जानकारी जरूरी है। इसके लिए उन्हें डिजिटल कम्प्यूटर शिक्षा से लैश करना होगा। इसके लिए छात्राओं के अभिभावकों को आगे आकर बेटियों को प्रोत्साहित करने की जरूरत है। उक्त बातें नगर परिषद की मुख्य पार्षद अंजू देवी ने शनिवार को चांदमारी लाल बंगला स्थित सीएससी नाइलिट कंप्यूटर प्रशिक्षण केंद्र द्वारा सीसीसी पाठ्यक्रम एवं डिजिटल साक्षरता के सफल अभ्यर्थियों के सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कही। वही विकास कुमार एवं राकेश ¨सह ने संयुक्त रूप से डिजिटल कम्प्यूटर शिक्षा व आज के परिवेश में इसकी उपयोगिता पर अपने-अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि आज के समय में छात्रों को डिजिटल साक्षरता में आत्मनिर्भर बनने की जरूरत है, ताकि युवा घर बैठे ईमेल भेजने, आनलाइन डिजिटल ट्राजेक्शन, रोजगार के लिए आनलाइन आवेदन आदि कर सकें। उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान जो पुर्णत: निश्शुल्क है से जुड़ने के लिए युवाओं को प्रेरित किया। वही संस्थान के निदेशक रवि शेखर ने डिजिटल साक्षरता के सफल अभ्यर्थियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए संस्थान द्वारा संचालित कम्प्यूटर पाठ्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी। वही नाईलिट कम्प्यूटर पाठ्यक्रम की उपयोगिता के बारे में युवाओं को बताया। भारत सरकार की सूचना व प्रौद्योगिकी से जुड़ी यह संस्था देश भर में कम्प्यूटर की नई टेक्नोलॉजी से युवाओं को अवगत करा रही है। इसके उपरांत मुख्य पार्षद अंजू देवी ने सफल अभ्यार्थी उपहार कुमार, पंकज कुमार, सलोनी कुमारी, जीतेंद्र कुमार, नवीन कुमार को मेडल व ट्रॉफी देकर सम्मानित किया।

Posted By: Jagran