मोतिहारी। महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के चाणक्य परिसर में एक विशेष कार्यक्रम के अवसर पर गांधी विकास सेवा संस्थान के अध्यक्ष, गांधी संग्रहालय, मोतिहारी के सचिव व प्रख्यात गांधीवादी विचारक श्री ब्रज किशोर सिंह ने विश्वविद्यालय को 8.5 लाख रुपये की राशि प्रदान की। इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा कि मैं अपने जीवन में गांधीवाद से प्रभावित हूं। गांधी जी ने कहा था कि अपनी आवश्यकताओं को कम करो, कुछ बचत करो और समाज पर लगाओ। आदमी जीवन में बहुत काम करता है और दुनिया छोड़कर चला जाता है। मैंने भी जीवन में कुछ काम किया है। सामाजिक काम किया है। प्रशासन में रहा, विधानमंडल में रहा, मंत्रिमंडल में रहा और मैं भी चला जाऊंगा। लेकिन मेरी इच्छा है कि मुझे इस दुनिया में कुछ छोड़कर जाना चाहिए। गांधी जी के विचार को कैसे जीवित रखा जा सकता है इसके लिए मैंने अपने पेंशन एवं अन्य स्त्रोतों से बचे रुपये को विश्वविद्यालय के माध्यम से समाज में लगाने के लिए कुलपति महोदय से अनुरोध किया। महात्मा गांधी के नाम से स्थापित इस विश्वविद्यालय में यह कोष रहेगा और पूरे हिदुस्तान में प्रत्येक वर्ष गांधी पर सबसे अच्छी पुस्तक लिखने वाले व्यक्ति को 51 हजार रुपये की पुरस्कार राशि से सम्मानित किया जाएगा। इस अवसर पर कुलपति प्रो. संजीव कुमार शर्मा ने कहा कि उच्चतर शिक्षा की चुनौतियों पर चर्चा के माध्यम से जो अकादमिक पवित्रता इस सभागार में हो रही थी उसमें एक और सामाजिक पवित्रता इसमें सम्बद्ध हुई है। 90 वर्ष से अधिक की आयु में श्री ब्रजकिशोर सिंह जी हमारे बीच आए और अपने जीवन के सम्पूर्ण संचित निधि में से एक राशि महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय को इस दायित्व के लिए दे रहे हैं कि वर्ष भर में गांधी के अध्ययन के संबंध में कोई श्रेष्ठ कार्य हो तो विश्वविद्यालय उसे सम्मानित करे। इसके लिए ये आर्थिक सहायता भी प्रदान कर रहे हैं। जन संपर्क प्रकोष्ठ के प्रभारी डॉ. पवनेश कुमार ने अपने संदेश में श्री ब्रज किशोर सिंह की प्रशंसा की और उनकी इच्छा के अनुरुप विश्वविद्यालय के माध्यम से प्रत्येक वर्ष गांधी विचार पर सर्वश्रेष्ठ पुस्तक लेखन करने वाले व्यक्ति को पुरस्कृत करने की व्यवस्था करने के लिए कुलपति प्रो. संजीव कुमार शर्मा का आभार जताया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस