दरभंगा। बुजुर्गों के प्रति युवा पीढ़ी को संवेदनशील बनाने के उद्देश्य से तैयार किए गए जेरोनटेक्नोलॉजी विषय में छमाही एड ऑन सर्टिफिकेट कोर्स के छात्रों का मंगलवार को वर्ग आरंभ हुआ। मौके पर आयोजित कार्यक्रम में कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार ¨सह ने छात्रों को ध्यानपूर्वक अध्ययन करने की सलाह दी। उन्होंने विश्वास जताया कि कक्षा में अलग-अलग आयु वर्ग के छात्र एवं छात्राओं के बीच तारतम्य स्थापित होगा तथा वे मिलकर बुजुर्गों की समस्याओं को बेहतर समझ सकेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुए कुलसचिव कर्नल निशीथ कुमार राय ने लीक से हटकर होने वाली पढ़ाई को प्रसन्नतापूर्वक करने तथा जुझारू एवं कुशल वृद्धसेवी बनने का परामर्श दिया। डब्ल्यूआइटी के निदेशक प्रो. एम. नेहाल ने पाठ्यक्रम की कतिपय विशेषताओं को रेखांकित किया। अतिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद ज्ञापन संस्थान के निदेशक प्रो. भवेश्वर ¨सह ने किया। संचालन करते हुए उन्होंने छात्रों को नियमित वर्ग करने की बात कही। साथ ही अध्ययन के दौरान हर संभव सहयोग का भरोसा दिलाया। इसका वर्ग 27 अगस्त से प्रात: काल 9.00 बजे से 10:30 बजे चलेगा। कुल उपलब्ध 40 सीटों के विरुद्ध अब तक इस कोर्स में विभिन्न विषयों के 24 स्नातक छात्र नामांकन करा चुके हैं। उन्होंने समाज को आइजीजी की गतिविधियों से निरंतर अवगत कराने की अपील की।

Posted By: Jagran