दरभंगा। किरतपुर प्रखंड कार्यालय को कैंप कार्यालय झगरूआ गांव ले जाने की मांग को लेकर किरतपुर की जिला परिषद सदस्या पूनम देवी के नेतृत्व में कई जनप्रतिनिधि बुधवार से आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। जिससे किरतपुर में राजनैतिक सरगर्मी तेज हो गई है। बताया जाता है कि प्रखंड की स्थापना के बाद से अब तक किरतपुर का प्रखंड कार्यालय घनश्यामपुर के कैंप कार्यालय

में संचालित हो रहा है। वहां की जनता तथा प्रतिनिधि वर्षों से प्रखंड कार्यालय किरतपुर ले जाने की मांग कर रहे हैं। वर्ष 2004 में भीषण बाढ़ के कारण तत्कालीन डीएम ने किरतपुर का प्रखंड कार्यालय घनश्यामपुर कैंप कार्यालय में चलाने का आदेश दिया था। जिप सदस्य पूनम देवी, प्रमुख इनामुल हक, उपप्रमुख राम प्रवेष राय, झगरूआ के मुखिया मो. आदिल आदि ने आरोप लगाया कि प्रशासन आम जनता तथा प्रतिनिधि की वाजिब

मांग की अनदेखी कर रहा है। अब जब तक प्रखंड कार्यालय किरतपुर को झगरूआ पंचायत में स्थानांतरित करने का आदेश नहीं दिया जाता आमरण अनशन जारी रहेगा। अनशन पर बैठने वालों में पंसस कमाल हसन, सबरी खातून नरकटिया भंडरीया

पंचायत के मुखिया नरेश यादव, झगरूआ तड़वारा के मुखिया दशरथ सदा, पंसस ¨पटू सदा, किरतपुर की मुखिया नीलम देवी आदि थे। जिप सदस्य पूनम देवी ने कहा कि उनकी मांग जायज है।

Posted By: Jagran