दरभंगा। बहादुरपुर थानाक्षेत्र के पुरखोपट्टी की अपहृत दो चचेरी बहनों की हत्या को लेकर गुरुवार को लोगों का आक्रोश भड़क गया। भाकपा माले और सीपीआइएम के बैनर तले लोगों ने अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शन किया। भाकपा माले के राज्य कमेटी सदस्य अभिषेक कुमार, जिला कमेटी सदस्य हरि पासवान, मो. जमालुद्दीन, प्रेमलाल पासवान, दोरिक पासवान और गणेश महतो के संयुक्त नेतृत्व में बहादुरपुर थाने में प्रदर्शन किया गया। थाने के परिसर के अंदर लोगों ने जमकर नारेबाजी की। इसके बाद प्रदर्शनकारियों और थानाध्यक्ष के बीच वार्ता हुई। इसमें मामले का पर्दाफाश करने और घटना में शामिल सभी आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की गई। इसके लिए पुलिस को तीन दिनों का समय दिया गया। कार्रवाई नहीं होने पर 24 जनवरी को एसएसपी कार्यालय के समक्ष आक्रोश मार्च निकालने की घोषणा की गई। रेखा देवी की अध्यक्षता में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए अभिषेक कुमार ने कहा कि नीतीश राज में अपराधियों का मनोबल बढ़ा हुआ है। महिला सशक्तिकरण व समाज सुधार यात्रा का ढोंग चल रहा है। सच्चाई यह है कि आज घर की औरतें और बेटियां सुरक्षित नहीं है। पूर्व प्रमुख हरि पासवान ने कहा कि बहादुरपुर में अपराधियों का बोलबाला हो गया हैं।

उधर, सीपीआइएम प्रखंड सचिव रामसागर पासवान और जनवादी महिला समिति के जिलाध्यक्ष सुशीला देवी के नेतृत्व में प्रतिवाद मार्च निकाला गया। मिर्जापुर देकुली चौक से निकाले गए मार्च में पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बहादुरपुर थाना मोड़ पर लालबाबू साहनी की अध्यक्षता में हुई सभा को संबोधित करते हुए प्रखंड सचिव पासवान ने कहा कि पुरखोपट्टी में दो चचेरी बहनों की हत्या कर दी गई। इससे बढ़ रहे अपराध को रोकने में नीतीश सरकार की विफलता उजागर हुई है। पुरखोपट्टी गांव की गुणवंती और विभा कुमारी की हत्या की उच्च स्तरीय जांच कराने एवं दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की। कार्रवाई नहीं होने पर 24 जनवरी को बहादुरपुर थाने पर प्रदर्शन करने की घोषणा की। जनवादी महिला समिति के जिलाध्यक्ष सुशीला देवी ने कहा कि नीतीश राज्य में बेटी सुरक्षित नहीं है। पुलिस अपराधियों पर कार्रवाई नहीं कर रही है। मौके पर रूबी देवी, मो. रसूल, वीरेंद्र पासवान, मनोहर शर्मा, मो. कलाम, नीलम देवी, दीप्ति देवी, ललित पासवान आदि कार्यकर्ताओं ने संबोधित किया।

--

Edited By: Jagran